भक्तों की रक्षा के लिए दौड़े आते हैं भगवान

मधुवन कॉलोनी में चल रही भागवत कथा

श्योपुर. शहर की मधुवन कॉलोनी में चल रही श्रीमद भागवत कथा में बुधवार को कथा व्यास पं. राधारमण शास्त्री ने जड़ भरत के वंश का वर्णन, अजामिल नारदजी को दक्ष श्राप, अजामिल की उपासना, ब्रह्माजी द्वारा हिरण्यकश्यप की तपस्या के बाद वरदान, प्रहलाद जन्म, राजा बलि और वामन अवतार, भगवान विष्णु का नरसिंह अवतार के साथ ही हिरण्यकश्यप के वध की कथा विस्तारपूर्वक श्रद्धालुओं को सुनाई।


कथा व्यास ने कहा कि ब्रह्माजी की हिरण्यकश्यप कठोर तपस्या करता है। उसकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी वरदान देते हंै कि उसे ना कोई घर में मार सके ना बाहर, ना अस्त्र से और ना शस्त्र से, ना दिन में मरे ना रात में, ना मनुष्य से मरे ना पशु से, ना आकाश में ना पृथ्वी में। इस वरदान के बाद हिरण्यकश्यप ने प्रभु भक्तों पर अत्याचार करना शुरू कर दिया, लेकिन भक्त प्रहलाद के जन्म के बाद हिरण्यकश्यप उसकी भक्ति से भयभीत हो जाता है, उसे मृत्यु लोक पहुंचाने के लिए प्रयास करता है। इसके बाद भगवान विष्णु भक्त प्रहलाद की रक्षा के लिए नरसिंह अवतार लेते हंै और हिरण्यकश्यप का वध कर देते हैं। कथा व्यास ने कहा कि भगवान को अपने भक्त सबसे ज्यादा प्रिय है। भगवान भक्तों की रक्षा के लिए दौड़े आते हैं। कथा के दौरान आकर्षक भजनों पर सुनाकर श्रद्धालुओं को आनंदित कर दिया।

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned