सुन मुरली की तान दौड़ आई सांवरिया पर झूम उठे श्रोता

- भागवत कथा में छठे दिन कृष्ण और रुक्मणी का विवाह का हुआ प्रसंग

By: Anoop Bhargava

Published: 22 Mar 2020, 11:27 AM IST

श्योपुर/कराहल
वीर तेजाजी महाराज के परिसर में चल रही श्रीमद भागवत कथा के छठे दिन श्रीकृष्ण रुक्मणी विवाह का आयोजन हुआ। कथा व्यास पंडित राहुल शास्त्री ने कहा कि महारास में पांच अध्याय हैं। उनमें गाए जाने वाले पंच गीत भागवत के पंच प्राण हैं। जो भी ठाकुरजी के इन पांच गीतों को भाव से गाता है वह भव पार हो जाता है। उन्हें वृंदावन की भक्ति सहज प्राप्त हो जाती है। कथा में भगवान का मथुरा प्रस्थान, कंस का वध, महर्षि संदीपनी के आश्रम में विद्या ग्रहण करना, कालयवन का वध, उधव गोपी संवाद, ऊधव द्वारा गोपियों को अपना गुरु बनाना, द्वारका की स्थापना एवं रुक्मणी विवाह के प्रसंग हुए।

कथा के दौरान आचार्य ने कहा कि महारास में भगवान श्रीकृष्ण ने बांसुरी बजाकर गोपियों का आव्हान किया और महारास लीला के द्वारा ही जीवात्मा परमात्मा का मिलन हुआ। जीव और ब्रह्म के मिलने को ही महारास कहते है। कथा भजन सुन मुरली की तान दौड़ आई सांवरिया पर श्रोताओं ने नृत्य किया। रास का तात्पर्य परमानंद की प्राप्ति है जिसमें दु:ख, शोक आदि से सदैव के लिए निवृत्ति मिलती है। भगवान श्रीकृष्ण ने गोपियों को रास के माध्यम से सदैव के लिए परमानंद की अनुभूति करवाई।

भागवत में रास पंचाध्यायी का विश्लेषण पूर्ण वैज्ञानिक है। पंडित राहुल शास्त्री ने कहा कि आस्था और विश्वास के साथ भगवत प्राप्ति आवश्यक है। भगवत प्राप्ति के लिए निश्चय और परिश्रम भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण ने 16 हजार कन्याओं से विवाह कर उनके साथ सुखमय जीवन बिताया भगवान श्री कृष्ण रुक्मणी के विवाह की झांकी ने सभी को आनंदित किया कथा के दौरान भक्तिमय संगीत ने श्रोताओं को आनंद से परिपूर्ण कर दिया। कथा स्थल पर कृष्ण और रुक्मणी विवाह की झांकी सजाई गई जिसमें सभी श्रद्धालुओं द्वारा आनंद पूर्वक श्रीकृष्ण और रुक्मणी का विवाह संपन्न कराया।

Anoop Bhargava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned