कलेक्टर ज्ञापन लेने नहीं आए तो किसानों ने कलेक्ट्रेट गेट पर किया अद्र्धनग्न प्रदर्शन

चंबल एक्सप्रेस-वे में नकद मुआवजे की मांग को लेकर दो दर्जन गांवों के किसानों को हल्लाबोल, घेरी कलेक्ट्रेट
कलेक्टर को ज्ञापन देने की मांग पर अड़े रहे किसान, कांग्रेस विधायक बाबू जंडेल ने अद्र्धनग्न प्रदर्शन के साथ ही किया शीर्षासन

श्योपुर. अटल प्रोग्रेस-वे (चंबल एक्सप्रेस-वे) में नकद मुआवजे की मांग को लेकर सोमवार को किसानों ने हल्लाबोल प्रदर्शन करते हुए न केवल कलेक्ट्रेट का घेराव किया, बल्कि कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव के ज्ञापन लेने नहीं आने पर कांग्रेस विधायक बाबू जंडेल के साथ अद्र्धनग्न प्रदर्शन भी किया। यही नहीं आक्रोशित किसानों ने कलेक्टर के खिलाफ नारे भी लगाए। लगभग दो घंटे तक प्रदर्शन के बाद किसान ज्ञापन फाड़कर फेंक गए और चेतावनी दी कि सात दिवस में सरकार ने नकद मुआवजे का आदेश जारी नहीं किया तो आगे उग्र आंदोलन होगा।


अटल प्रोग्रेस-वे किसान संघर्ष समिति के बैनर तले किसान पहले हजारेश्वर पार्क में एकत्रित हुए और यहां से नारेबाजी करते हुए दोपहर 2 बजे कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां श्योपुर विधायक बाबू जंडेल के साथ किसानों ने कलेक्ट्रेट का घेराव किया और जमकर नारेबाजी की। हालांकि इस दौरान डिप्टी कलेक्टर बिजेंद्र यादव ज्ञापन लेने आए, लेकिन किसानों ने उन्हें वापस भेज दिया और कलेक्टर को ही ज्ञापन देने पर अड़ गए। इसके बाद एसडीएम रूपेश उपाध्याय और प्रभारी एडीएम विनोद सिंह को भी किसानों ने वापस भेज दिया। इसी दौरान किसी ने कह दिया कि कलेक्टर बंगले पर हैं और आराम कर रहे हैंं। इसी से किसान आक्रोशित हो गए और कलेक्टर के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। यही नहीं विधायक जंडेल ने आगे आकर कहा कि यदि 15 मिनट में कलेक्टर नहीं आए तो हम अद्र्धनग्न प्रदर्शन शुरू कर देंगे। फिर भी कलेक्टर नहीं आए तो विधायक जंडेल सहित किसानों ने कलेक्ट्रेट गेट पर ही अद्र्धनग्न प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान किसान रो रहा है और कलेक्टर आराम कर रहे हैं, जिला प्रशासन मर गया जैसे नारे भी लगाए। हालांकि लगभग डेढ़ घंटे बाद कलेक्टर गेट तक आए, लेकिन किसानों की नारेबाजी देखकर चंद सेकंड में ही लौट गए। इसके बाद मामला बिगड़ता देख पुलिस बल बुलवा लिया गया, लेकिन किसान अड़े रहे और अन्य अधिकारियों के ज्ञापन देने से इंकार कर दिया। इसके बाद जब कलेक्टर नहीं आते दिखे तो किसानों ने कलेक्ट्रेट गेट पर ज्ञापन फाड़ दिया और कहा कि हम मीडिया के माध्यम से अपना ज्ञापन देंगे। इस दौरान लगभग दो घंटे तक कलेक्ट्रेट गेट पर प्रदर्शन चला और खूब हो हल्ला हुआ।


डेढ़ घंटे बाद आए कलेक्टर आए, लेकिन चंद सेकंड में लौट गए

प्रदर्शन के दौरान अपने बंगले पर मौजूद कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव लगभग डेढ़ घंटे बाद दोपहर साढ़े तीन बजे कलेक्ट्रेट पहुंचे। इस दौरान वे किसानों का ज्ञापन लेने के लिए आए भी, लेकिन कलेक्ट्रेट के गेट पर खड़े और आगे पोर्च में किसान नारेबाजी कर रहे थे। इसी नारेबाजी को देखकर कलेक्टर श्रीवास्तव चंद सेकंड में ही वापस लौट गए और अधीनस्थों से कह गए कि इन्हें ज्ञापन देना हो तो मुझे बुला लेना। उधर एसडीएम रूपेश उपाध्याय ने किसानों को समझाने का प्रयास किया तो किसानों ने कहा कि कलेक्टर को आगे आना चाहिए था, हमें तो पता ही नहीं चला कलेक्टर कब आए। इस दौरान एएसपी पीएल कुर्वे भी किसानों को समझाने पहुंचे और बोले कि कलेक्टर आए तब ज्ञापन क्यों नहीं दिया, तो किसान बोले हमें पता ही नहीं चला कलेक्टर कब आए। इस दौरान एएसपी और किसानों में तीखी बहस भी हुई। जिसके बाद एएसपी ने टीआई को पुलिस फोर्स बुलाने के निर्देश दिए।

विधायक ने शुरू कर दिया शीर्षासन

प्रदर्शन के दौरान विधायक बाबू जंडेल ने अद्र्धनग्न होकर न केवल स्वयं भी कलेक्टर के खिलाफ नारेबाजी की, बल्कि किसानों के बीच आकर अद्र्धनग्न अवस्था में ही शीर्षासन शुरू कर दिया। लगभग पांच मिनट तक दो बार उन्होंने शीर्षासन किया और कहा कि कलेक्टर की तानाशाही ने आज लोकतंत्र की हत्या कर दी है, मैं किसानों के हक के लिए शीर्षासन तो क्या अपनी गर्दन भी कटा सकता हूं। उन्होंने कहा कि सिंधिया और शिवराज के इस राज में कलेक्टर तानाशाह हो रहे हैं, जो किसानों का ज्ञापन लेने तक नहीं आ सकते।


किसानों का प्रदर्शन एक नजर में

किसान जमीन के बदले जमीन के बजाय चार गुना नकद मुआवजा देने मांग कर रहे हैं।
किसान संघर्ष समिति के बैनर तले दोपहर 12 बजे किसान हजारेश्वर पार्क में जुटे।
हजारेश्वर पार्क से बाइक रैली निकालते हुए किसान दोपहर 2 बजे कलेक्ट्रेट पहुंचे।
दोपहर 2.15 बजे डिप्टी कलेक्टर बिजेंद्र यादव आए, जिन्हें किसानों ने वापस भेज दिय।
दोपहर 2.40 बजे एसडीएम रूपेश उपाध्याय आए, उन्हें भी वापस भेज दिया।
दोपहर 2.45 बजे किसानों ने अद्र्धनग्न प्रदर्शन शुरू कर दिया।
दोपहर 3 बजे प्रभारी एडीएम विनोद सिंह आए, जिन्हें भी किसानों ने वापिस भेज दिया।
दोपहर 3.21 बजे कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव आए, लेकिन लौट गए।
दोपहर 3.31 बजे एएसपी पीएल कुर्वे आए, जिनकी किसानों से तीखी बहस हुई।
दोपहर 3.40 बजे पुलिस लाइन से पुलिस बल बुलवा लिया गया।
दोपहर 3.55 बजे किसान ज्ञापन फाड़कर नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट गेट से हट गए।

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned