इलाज तो छोडिए अस्पताल मे पानी तक नहीं

- विजयपुर विकासखंड के सहसराम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का मामला
- अस्पताल में मरीजों को सुविधाओं की भी दरकार
पत्रिका अभियान..अस्पतालों में सुविधाओं की जरुरत

By: Anoop Bhargava

Published: 23 Feb 2021, 09:59 PM IST

विजयपुर
सहसराम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में इलाज तो छोडि़ए मरीज और अस्पताल के स्टाफ तक के लिए पीने के पानी की व्यवस्था नहीं है। पानी के लिए डॉक्टर से लेकर स्टाफ को परेशान होना पड़ता है। अस्पताल से 200 मीटर दूर से स्टाफ व डॉक्टर को पानी की जुगाड़ करना पड़ती है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अस्पताल में अन्य सुविधाओं के हालात क्या होंगे।
विजयपुर से 40 किलोमीटर दूर 25 हजार की आबादी को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोला गया, लेकिन यहां उपचार के नाम पर खानापूर्ति होती है। यही वजह है कि अस्पताल में इलाज के लिए कम मरीज ही पहुंचते हैं। हर रोज औसतन 15 मरीज ही ओपीडी में पहुंचते हैं। ऐसा नहीं कि क्षेत्र ेंमें लोग बीमार न पड़ते हो, अस्पताल में व्यवस्थाएं न होने के कारण मरीज इलाज के लिए बैराड़ या फिर कैलारस और विजयपुर चले जाते हैं।
नाम की पीएचसी
सहसराम पीएचसी केवल नाम की है। सुविधाओं के अभाव में मरीज झोलाछाप चिकित्सकों के जाल में फंस जाते हैं। पीएचसी पर सर्दी- जुखाम के मरीजों से लेकर छोटी बीमारियों का भी ठीक से इलाज नहीं होता। यही वजह है कि मरीज सहसराम अस्पताल में दिखाने के बजाए इधर-उधर दिखाना ज्यादा पसंद करते हैं।
पानी के लिए 200 मीटर की परेड
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में आने वाले मरीज के साथ अस्पताल स्टाफ को पानी नसीब नहीं होता। अस्पताल में बने क्वाटरों में भी पानी की उचित व्यवस्था नहीं होने से स्टाफ व डॉक्टर को पानी के लिए 200 मीटर की दूरी तय कर पानी लाना पड़ता है। इस परेशानी पर आज तक किसी ने ध्यान नहीं दिया है।

Anoop Bhargava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned