श्री कृष्ण की बाल लीला सुन मंत्र मुग्ध हुए श्रोता

कथा के पांचवें दिन श्रीकृष्ण बाल लीला, माखन चोरी व गोवर्धन पूजा का किया वर्णन

By: Anoop Bhargava

Updated: 19 Jan 2019, 07:54 PM IST

श्योपुर जिले के दांतरदा में बनवाड़ा हनुमान मंदिर पर चल रही भागवत कथा में शनिवार को श्रीकृष्ण बाल लीला का सुंदर चित्रण किया गया। कथावाचक पंडित वैधनाथ शास्त्री ने भगवान कृष्ण बाल लीला, माखन चोरी व गोवर्धन पूजा का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि भगवान की लीलाएं मानव जीवन के लिए प्रेरणा दायक हैं। भगवान कृष्ण ने बचपन में अनेक लीलाएं कीं। बाल कृष्ण सभी का मन मोह लिया करते थे। नटखट स्वभाव के चलते यशोदा मां के पास उनकी हर रोज शिकायत आती थी। मां उन्हें कहती थी कि प्रतिदिन तुम माखन चुरा के खाया करते हो तो वह तुरंत मुंह खोलकर मां को दिखा दिया करते थे कि मैंने माखन नहीं खाया।
शास्त्री ने कहा कि भगवान कृष्ण अपने सखाओं और गोप-ग्वालों के साथ गोवर्धन पर्वत पर जाते थे। वहां पर गोपिकाएं 56 प्रकार का भोजन रखकर नाच गाने के साथ उत्सव मना रही हैं। कृष्ण के पूछने पर उन्होंने बताया कि आज के दिन ही व्रसासुर को मारने वाले तथा मेघों व देवों के स्वामी इंद्र का पूजन होता है। इसे इंद्रोज यज्ञ कहते हैं। इससे प्रसन्न होकर इन्द्र ब्रज में वर्षा करते हैं जिससे प्रचुर अन्न पैदा होता है। भगवान कृष्ण ने कहा कि इन्द्र में क्या शक्ति है। उनसे अधिक शक्तिशाली तो हमारा गोवर्धन पर्वत है। इसके कारण ही वर्षा होती है अत: हमें इंद्र से बलवान गोवर्धन की पूजा करनी चाहिए। बहुत विवाद के बाद श्री कृष्ण की यह बात मानी गई और ब्रज में गोवर्धन पूजा की तैयारियां शुरू हो गई।

Anoop Bhargava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned