एक सप्ताह में लौटे दो हजार से अधिक मजदूर, अभी आधे की ही हो पाई स्क्रीनिंग

-कोरोना के खौफ के चलते अन्य राज्यों से लौट रहे मजदूर, जिले में तीनों विकासखंडों में स्क्रीनिंग में लगी 9 टीमें

श्योपुर,
कौरोना वायरस के फैलते संक्रमण के डर से देश के अन्य राज्यों में मजदूरी कर रहे मजदूर लगातार लौट रहे हैं। हालांकि अब लॉकडाउन के चलते मजदूरों के आने की संख्या में कम है, लेकिन बीते एक सप्ताह में जिले भर में लगभग 2100 के आसपास लोग वापिस आए हैं। ग्राम पंचायतों के माध्यम से इन्हें सूचीबद्ध भी किया गया है, लेकिन अभी तक सभी की स्क्रीनिंग नहीं हो पाई है। जिसके चलते उन गांवों में लोगों में डर है, जहां स्क्रीनिंग नहीं हो पाई और बाहर से आए मजदूर रह रहे हैं।


लगातार पैर पसारते कोरोना के चलते प्रशासन ने बाहर से आाने वाले लोगों केा सूचीबद्ध करने के लिए पंचायत अमले को निर्देश दिए। वहीं जिला पंचायत में एक जिलास्तरीय कंट्रोल भी बनाया गया है। इसी निर्देश के बाद ग्राम पंचायतों द्वारा अन्य राज्यों से लौटे मजदूरों को सूचीबद्ध किया जा रहा है। मंगलवार तक की स्थिति में जिले में 2100 के आसपास लोग सूचीबद्ध हुए हैं, जिनमें श्योपुर जनपद में 1000, विजयपुर में 600 और कराहल जनपद पंचायत क्षेत्र के गांवों में 500 लेाग लिस्टेड हुए हैं। महाराष्ट्र, राजस्थान, दिल्ली, केरल, तमिलनाडू, गुजरात, केरल आदि सहित अन्य राज्यो से आए लोगों की स्क्रीनिंग के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तीनों विकासखंडों में तीन-तीन टीमें कुल 9 टीमें गठित की है। हालांकि टीम लगातार गांवों में भ्रमण कर बाहर से आए मजदूरों की स्क्रीनिंग कर उन्हें घरों में रहने की समझाइश दे रही है, लेकिन अभी तक लगभग एक हजार लोगों की ही स्क्रीनिंग हो पाई है। इनमें किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं।


जयपुर से आए एक सैकड़ा मजदूरों की हुई स्क्रीनिंग
कराहल विकासखंड के विभिन्न गांवों के लगभग एक सैकड़ा मजदूर जयपुर और आगरा से आए। जब ये मजदूर कराहल पहुंचे तो प्रशासन की निगरानी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने करियादेह तिराहे पर स्क्रीनिंग की गई।

jay singh gurjar Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned