नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की

- कराहल व बड़ौदा में चल रही भागवत कथा में कृष्ण जन्म उत्सव पर झूम उठे श्रद्धालु

कराहल/बड़ौदा
करहाल के वीर तेजाजी महाराज परिसर और बड़ौदा पीडब्ल्यूडी परिसर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में कृष्ण जन्म उत्सव धूमधाम से मनाया गया। वीर तेजाजी महाराज परिसर में आचार्य राहुल शास्त्री और बड़ौदा में आचार्य दीपक कृष्ण शास्त्री ने जन्म उत्सव का प्रसंग सुनाया। कथा के दौरान भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ वैसे ही श्रद्धालु नाचने लगे। नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल के भजन पर श्रद्धालु खूब नाचे।

कथा व्यास ने भगवान श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन करते हुए धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष की महत्ता पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि 84 लाख योनियां भुगतने के पश्चात मानव देह की प्राप्ति होती है । इसलिए इस देह को उपयोग व्यर्थ कामों में ना करके जनकल्याण व ईश्वर भक्ति में समर्पित कर दें। उन्होंने बताया कि जब-जब अत्याचार और अन्याय बढ़ता है तब-तब प्रभु का अवतार होता है। प्रभु का अवतार अत्याचार को समाप्त करने और धर्म की स्थापना के लिए होता है।

जब कंस ने सभी मर्यादाएं तोड़ दी तो प्रभु श्रीकृष्ण का जन्म हुआ। उन्होंने कहा कि जब तक हमारा जीवन राम की तरह नहीं रहेगा तब तक श्री कृष्ण कथा हमें समझ नहीं आएगी। भागवत कथा एक ऐसी कथा है जिसे सुनने से मन को शांति मिलती है अपने शरीर के मेल को साफ करने के लिए अगर इसे मन से ग्रहण करें तो यह अमृत के समान है इससे अंदर का अहंकार खत्म हो जाता है। मानव का सबसे बड़ा दुश्मन उसके अंदर बैठा अहंकार है।

Anoop Bhargava Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned