बैंदी के बैरक में फांसी लगाने पर उप अधीक्षक जेल को नोटिस, मुख्य प्रहरी और प्रहरी निलंबित

जिला जेल की बैरक 3 में फांसी लगाकर आत्महत्या करने वाले बंदी की मौत के मामले में अनुविभागीय अधिकारी एवं पदेन अधीक्षक जिला जेल रूपेश उपाध्याय ने उप अधीक्षक जेल बीएस मौर्य को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

By: rishi jaiswal

Updated: 18 Oct 2020, 10:47 PM IST

श्योपुर. जिला जेल की बैरक 3 में फांसी लगाकर आत्महत्या करने वाले बंदी की मौत के मामले में अनुविभागीय अधिकारी एवं पदेन अधीक्षक जिला जेल रूपेश उपाध्याय ने उप अधीक्षक जेल बीएस मौर्य को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। वहींअतिरिक्त मुख्य प्रहरी व प्रहरी जिला जेल को निलंबित कर दिया है। इन पर जेल में निगरानी में लापरवाही बतरने का आरोप है। बंदी सोनू माली ने शनिवार की दोपहर जिला जेल में पंखे पर फंदा डालकर फांसी लगा ली थी।


उपअधीक्षक मौर्य को दो दिन में अपना स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। नोटिस में कहा गया कि बंदी सोनू कोविड जेल से फरार हो चुका था। पकड़े जाने के बाद उसका कोरोना सैंपल कराया गया था ऐसे में उसकी निगरानी रखी जानी थी जो नहीं रखी गई और घटना घटित हो गई। बंदी सोनू कोविड जेल से भाग चुका था इसलिए मुख्य प्रहरी को इसकी विशेष निगरानी की हिदायत दी गई थी, लेकिन इसके बाद भी बंदी फांसी पर झूल गया इसलिए मुख्य प्रहरी की लापरवाही प्रदर्शित होती है। वहीं प्रहरी महेन्द्र यादव की ड्यूटी भी जेल परिसर में बैरक एक दो तीन की निगरानी के लिए लगाई गई थी। लेकिन बंदी ने बैरक फांसी लगा ली। उपअधीक्षक जिला जेल के प्रतिवेदन के बाद मुख्य प्रहरी व प्रहरी को निलंबित करने के आदेश अनुविभागीय अधिकारी व पदेन अधीक्षक जिला जेल ने जारी किए।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned