महज ढाई फीसदी ने दिया सिटीजन फीडबैक, 15वें स्थान पर श्योपुर

स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में अपना फीडबैक देने में शहरवासियों की रुचि नहीं, 1500 अंकों का है सिटीजन फीडबेक

श्योपुर,
स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 की दौड़ अब अंतिम दौर में है। सर्वेक्षण के लिए केंद्र की टीम कभी भी दस्तक दे सकती है। लेकिन इस बीच सर्वेक्षण के सिटीजन फीडबैक में भी श्योपुर फिसड्डी नजर आ रहा है। स्थिति यह है कि 72 हजार की आबादी वाले शहर में महज ढाई फीसदी लोगों ने अभी तक अपना फीडबैक दिया है। जिसके चलते श्योपुर शहर ग्वालियर-चंबल के 51 निकायों में 15वें स्थान पर चल रहा है। बावजूद इसके नपा प्रशासन लोगों को ऑनलाइन सिटीजन फीडबैक देने के लिए प्रेरित नहीं कर रही है।


सर्वेक्षण 2020 के सिटीजन फीडबैक की बीते रोज जारी हुई ताजा रैकिंग में संभाग में श्योपुर 15वें स्थान पर है और 72 हजार लोगों में से महज 1800 लोगों ने अपना फीडबेक दिया है। विशेष बात यह है कि जिले की दोनों नगर परिषदों बड़ौदा और विजयपुर का सिटीजन फीडबैक श्योपुर से आगे चल रहा है। जिसके चलते बड़ौदा संभाग में 8वें और विजयपुर 11वें स्थान पर चल रहे हैं। हालांकि श्योपुर नपा प्रशासन द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए तमाम कवायद की जा रही है, लेकिन सिटीजन फीडबेक में अभी हम फिसड्डी नजर आ रहे हैं। उल्लेखनीय है कि स्वच्छता सर्वेक्षण 4 जनवरी से शुरू हो चुका है, जो 31 जनवरी तक चलेगा। इसी दौरान टीम सर्वे को आएगी।


1500 अंकों का ही सिटीजन फीडबैक
स्वच्छता सर्वे मेेंं टीम तो अपने सर्वे के आधार पर शहर को स्वच्छता के लिए अंक देगी ही साथ ही नागरिक भी अपने शहर की स्वच्छता की रैंकिंग को उच्च पायदान पर पहुंचाने में सहयोग कर सकते हैं। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 कुल 6000 अंकों का होगा। इसमें 1500 अंक सिटीजन फीडबैक के लिए निर्धारित किए गए हैं। चार जनवरी से सिटीजन फीडबैक के लिए पोर्टल ओपन हो गया है, जो 31 जनवरी तक ओपन रहेगा। शहर के लोग स्वच्छतासर्वेक्षण2020 डॉट ओआरजी/सिटीजनफीडबैक पर जाकर अपना फीडबैक दे सकते हैं।

jay singh gurjar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned