scriptPoor families bearing the brunt of GRS's negligence | जीआरएस की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे गरीब परिवार | Patrika News

जीआरएस की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे गरीब परिवार

हांफ रही आयुष्मान भारत योजना, प्रदेश स्तर पर 46वें पायदान पर जिला
- 3 लाख 85 हजार 703 के लक्ष्य में बने सिर्फ 2 लाख 1 हजार 805

श्योपुर

Published: June 22, 2022 11:32:05 am

श्योपुर
केंद्र सरकार से संचालित आयुष्मान भारत योजना जिले में हांफ रही है। कारण ग्राम रोजगार सहायक बन रहे हैं। दरअसल ग्राम रोजगार सहायक को ग्राम स्तर पर आयुष्मान कार्ड बनाने की जिम्मेदारी दी गई है, लेकिन जीआरएस लापरवाह बने हुए हैं। ऐसे में लक्ष्य पूरा करने में स्वास्थ्य विभाग को पसीना आ रहा है। प्रदेश स्तर पर अन्य जिलों के मुकाबले श्योपुर 46वें स्थान पर है।
जिले में 3 लाख 85 हजार 703 के सापेक्ष 2 लाख 1 हजार 805 आयुष्मान कार्ड बन पाए हैं। 48 फीसदी लाभार्थी ऐसे हैं, जिन तक विभाग पहुंच नहीं पाया है। 52 फीसदी कार्ड अब तक बन पाए हैं। ग्राम रोजगार सहायकों द्वारा ग्रामीण स्तर पर आयुष्मान कार्ड को लेकर काम नहीं किए जाने से स्वास्थ्य विभाग के 100 फीसदी लक्ष्य का सपना अधूरा है।
जीआरएस की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे गरीब परिवार
जीआरएस की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे गरीब परिवार
चार सालों में 100 फीसदी नहीं बने आयुष्मान कार्ड
साल 2018 में केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ किया था। वर्ष 2011 की जनगणना में गरीबी रेखा से नीचे परिवारों को आयुष्मान भारत योजना को लेकर चिन्हित किया गया था। लाभार्थी को एक साल में पांच लाख रुपए तक का इलाज निशुल्क कराने की सुविधा दी गई है। लेकिन प्रदेश के 52 जिलों में से कोई भी जिला इन चार सालों में 100 प्रतिशत आयुष्मान कार्ड का टारगेट पूरा नहीं कर पाया है।
चंबल अंचल के भिण्ड, मुरैना से भी पिछड़ा श्योपुर
आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए चलाए जा रहे अभियान का टारगेट पूरा करने में भले ही प्रदेश के सभी जिले हाफ रहे हैं, लेकिन श्योपुर जिले की स्थिति चंबल अंचल के भिण्ड मुरैना से भी खराब है। भिण्ड 25 और मुरैना 32 वें पायदान पर हैं। जबकि श्योपुर 46वें स्थान पर है। जिले में ग्रामीण क्षेत्रों की स्थिति काफी खराब है।
कार्ड बनाने यूजर 224, एक्टिव महज 120
आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए 224 यूजर हैं, लेकिन एक्टिव महज 120 हैं। 104 इन एक्टिव हैं। यह यूजर ग्राम रोजगार सहायक हैं। जिनके कारण आयुष्मान योजना को पलीता लग रहा है। गरीब परिवार आयुष्मान कार्ड के लिए चक्कर लगा रहा है। लेकिन उसका कार्ड नहीं बन पा रहा है। वर्तमान में ग्राम रोजगार सहायक पंचायत चुनाव का हवाला देकर काम से बच रहे हैं।
फैक्ट फाइल
कुल टारगेट: 385703
कार्ड बने: 201805
यूजर : 224
एक्टिव : 120
इन एक्टिव: 104
इनका कहना है
यह बात सही है कि आयुष्मान कार्ड को लेकर दिक्कत आ रही है। इसलिए हमने मुख्य कार्यपालन यंत्री आयुष्मान को पत्र लिखकर स्वास्थ्य विभाग को ही कार्ड बनाने के लिए अनुमति देने को कहा है।
डॉ.बीएल यादव
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, श्योपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलानMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के नए सीएम, आज शाम होगा शपथ ग्रहण समारोहAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के बने सीएम, देवेंद्र फडणवीस ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ'इज ऑफ डूइंग बिजनेस' के मामले में 7 राज्यों ने किया बढ़िया प्रदर्शन, जानें किस राज्य ने हासिल किया पहला रैंक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.