तीन दिन के लिए खुला पोर्टल, श्योपुर-बड़ौदा में तुलाई शुरू

गेहूं विक्रय से वंचित रहे किसानों के लिए भोपाल से तीन दिन के लिए खोला पोर्टल, 596 किसानों को जारी किए गए थे टोकन
पोर्टल बंद होने और खरीदी नहीं होने के विरोध में बीती रात बड़ौदा में किसानों ने लगाया था जाम, पोर्टल खुला तो मिली राहत

बड़ौदा/कराहल. 30 मई की रात को भोपाल से बंद हुआ गेहूं उपार्जन का पोर्टल सोमवार की सुबह फिर खुल गया। पोर्टल खुुलने के बाद श्योपुर और बड़ौदा के केंद्रों पर तो किसानों के गेहूं की तुलाई शुरू हो गई, लेकिन कराहल के बरगवां में तुलाई शुरू नहीं होने से किसान भड़क गए और हंगामा कर दिया। यही नहीं दो दर्जन किसानों ने तहसील कराहल पहुंचकर घेराव किया। जिसके बाद तहसीलदार ने तुलाई का आश्वासन दिया, तब किसान माने।


इस बार गेहूं खरीदी की अंतिम तारीख 26 मई थी, लेकिन किसानों की मांग पर इसे 30 तक बढ़ा दिया गया। यही वजह रही कि 30 मई की रात को भोपाल से पोर्टल बंद हो गया और जिले में पांच सैकड़ा से अधिक किसान खरीद केंद्रों की कतारों में खड़े रह गए। हालांकि किसानों ने 31 मई को पोर्टल शुरू होने का दिनभर इंतजार किया, लेकिन शाम को किसानों को सब्र टूट गया और बड़ौदा में श्योपुर-बारां हाइवे पर जाम लगा दिया। इसके बाद जिला प्रशासन के अफसरों ने भोपाल बात की, तब कहीं जाकर पोर्टल खुलने का आश्वासन मिला। इसके बाद सोमवार को सुबह 9 बजे पोर्टल खुल गया और श्योपुर, बड़ौदा सहित दो दर्जन केंद्रों पर कतारों में खड़े किसानों ने राहत की सांस ली। यही नहीं बड़ौदा मंडी में आधा दर्जन केंद्रों के लिए किसानों के गेहूं की तुलाई भी शुरू हो गई। बताया गया है कि यहां जिन किसानों को पूर्व में टोकन दिए गए थे, उनकी तुलाई सोमवार को हो रही थी, लेकिन तीन सैकड़ा के आसपास नई ट्रॉलियां और कतार में लग गई, जिनके किसान दिनभर टोकन के इंतजार में रहे।


बड़ौदा से तुलाई की खबर आई तो भड़के किसान


सोमवार की सुबह पोर्टल खुलने के बाद भी कराहल के बरगवां केंद्र पर पांच दिन से खड़े किसानों का गेहूं नहीं तुला तो किसानों ने हंगामा कर दिया। किसान तब और भड़क गए, जब उन्हें पता चला कि पोर्टल खुलने के बाद बड़ौदा में खरीदी प्रारंभ हो गई है। यही नहीं जब केंद्र पर कोई अधिकारी नहीं पहुंचा तो किसान कराहल तहसील कार्यालय पहुंचे तो यहां भी कोई नहीं मिला। इस पर किसानों ने तहसीलदार को फोन लगाया, तब तहसीलदार ने किसानों का गेहूं तुलाई कराने का आश्वासन दिया, तब किसान लौटे और कई घंटों बाद गेहूं तुलाई हुई। किसानों का कहना था कि केंद्र पर 32 किसान ही बचे थे, लेकिन रविवार को खरीद नहीं हुई तो उनमें से भी कई किसान वापस चले गए और बाजार में औने-पौने दाम में गेहूं बेच दिया। इस संबंध में तहसीलदार शिवराज मीणा ने बताया कि चिह्नित किए गए 26 किसानों का गेहूं तुलाई करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।


24 लाख 92 हजार क्ंिवटल की हुई खरीद
बीते डेढ़ माह से जिले में चल रही गेहूं खरीदी में सोमवार की सुबह तक की स्थिति में 22 हजार 406 किसानों से 24 लाख 92 हजार 267 क्ंिवटल गेहूं की खरीद की जा चुकी है। अब तीन दिन के लिए खुले पोर्टल के चलते ये मात्रा 25 लाख क्ंिवटल को पार कर जाएगी।


भोपाल से पोर्टल चालू कर दिया गया है, तीन दिन के लिए ये पोर्टल खोला है। रविवार तक की स्थिति में 596 किसानों को टोकन जारी हुए थे, उन किसानों के गेहूं की तुलाई की जा रही है।
एनएस चौहान, जिला आपूर्ति अधिकारी, श्योपुर

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned