बालिका छात्रावास में एसडीएम ने मारा छापा, अधीक्षिका ने किया विरोध

- विजयपुर स्थित शासकीय कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास का मामला
- शुक्रवार की रात 9 बजे दी दबिश, रात एक बजे तक चला घटनाक्रम
- एसडीएम बोले..अनियमितता बरतने व अधीक्षिका के पति के छात्रावास में रहने की मिली थी शिकायत

श्योपुर/विजयपुर
शासकीय कस्तूरबा गांधी बालिका मॉडल छात्रावास में उस समय हडक़ंप मच गया जब प्रशासन की टीम ने रात करीब नौ बजे यहां दबिश दी। एसडीएम त्रिलोचन गौड़, तहसीलदार अशोक गोवडिय़ा और पुलिस दल के साथ यहां औचक निरीक्षण पर पहुंचे थे। प्रशासन की टीम को छात्रावास में देख अधीक्षिका उर्मिला आर्य भडक़ गईं, उन्होंने कार्रवाई का विरोध करते हुए जमकर हंगामा किया। इससे प्रशासनिक अफसरों के हाथ-पांव फूल गए। प्रशासन की टीम पर अधीक्षिका ने मारपीट और चोरी करने के आरोप लगाए हैं। रात नौ बजे से लेकर एक बजे तक छात्रावास में कार्रवाई चली। इससे छात्रावास में निवासरत छात्राएं डरी सहमी नजर आईं।
विजयपुर एसडीएम त्रिलोचन गौड़ को छात्रावास में अनियमितता बरतने और नियम विरुद्व अधीक्षिका के परिवार सहित रहने की सूचना मिली थी। इस सूचना के आधार पर एसडीएम ने महिला पुलिस की मदद से छात्रावास का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अधीक्षिका के पति के कपड़े से लेकर दिनचर्या का पूरा सामान छात्रावास में मिला। जिसे प्रशासन की टीम ने बकायदा पंचनामा बनाकर जब्त कर लिया। निरीक्षण के दौरान प्रशासन की टीम का सहयोग न करने पर अधीक्षिका के खिलाफ प्रतिवेदन बनाकर कलेक्टर को भेजने की बात एसडीएम ने कही है।
अधीक्षिका ने बाहर फेंक दिया सामान
कार्रवाई के दौरान अधीक्षिका उर्मिला आर्य ने विरोध करते हुए प्रशासन की टीम को धमकाया। इतना ही नहीं उन्होंने सोने-चांदी के आभूषण सहित अन्य सामान निकालकर बाहर फेंक दिया और जोर-जोर से चिल्लाकर रोते हुए कहने लगीं में तुम सब को देख लूंगी मुझे नहीं जानते हो मैं कौन हूं। तुम सब को ऐसा फंसाऊंगी कि तुम सब देखते जाओगे। तुमने आधी रात को मेरे साथ मारपीट कर छात्रावास में चोरी की है।
एसडीएम ने वरिष्ठ अफसरों को दी जानकारी
अधीक्षिका द्वारा विरोध किए जाने की घटना से एसडीएम कुछ समय के लिए सन्न रह गए। उन्होंने तत्काल इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी। अफसरों को जानकारी देने के बाद प्रशासनिक टीम ने कार्रवाई को पूरा किया। निरीक्षण की कार्रवाई देर रात तक चलने के कारण छात्रावास में निवासरत बालिकाएं परेशान नजर आईं।
इनका कहना है
हमें छात्रावास में अनियमितता और पति के रहने की शिकायतें लगातार मिल रही थीं। निरीक्षण में सहयोग करने की बजाय अधीक्षिका ने विरोध किया। निरीक्षण के दौरान हमें कुछ संदिग्ध कपड़े मिले। जिन्हें जब्त कर लिया है। अधीक्षिका के खिलाफ जांच प्रतिवेदन बनाकर कार्रवाई के लिए कलेक्टर को भेजा जाएगा।
त्रिलोचन गौड़
एसडीएम, विजयपुर
वर्जन
मेरे पति छात्रावास में नहीं रहते हैं। प्रशासन की टीम ने जो कपड़े जब्त किए हैं उन्हें मैं धोने के लिए लाई थी। निरीक्षण का यह तरीका ठीक नहीं है।
उर्मिला आर्य, अधीक्षिका कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास, विजयपुर

Anoop Bhargava
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned