श्योपुर में दीदी कैफे के बाद अब सखी कैफे चलाएंगी महिलाएं

नगरपालिका ने श्योपुर केे बसस्टैंड परिसर में स्वसहायता समूह की महिलाओं के माध्यम से शुरू कराई फास्ट फूड की दुकान

By: jay singh gurjar

Published: 10 Feb 2021, 08:39 PM IST

श्योपुर,
स्वसहायता समूह की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कलेक्ट्रेट में संचालित आजीविका दीदी कैफे की तरह ही अब शहर के बसस्टैंड में आजीविका सखी कैफे भी संचालित होगी। जिसमें समूह की महिलाएं फास्ट फूड बेचती नजर आएगी। इस आजीविका सखी कैफे का शुभारंभ बुधवार को किया गया।


मुख्य नगरपालिका अधिकारी मिनी अग्रवाल और भाजपा नेताओं बिहारी सिंह सोलंकी व राघवेेंद्र जाट की मौजूदगी में हुए शुभारंभ कार्यक्रम के बाद महिलाओं ने कैफे सेंटर का संचालन शुरू किया। इस कैफे मे स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा काफी, चाय, समोसा, कचैरी, नमकीन आदि स्वयं निर्मित कर विक्रय किया जाएगा। इस दौरान सीएमओ मिनी अग्रवाल ने कहा कि हम समूहों की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये शहर में निश्चित पाइंटो पर आजीविका सखी की दुकान (गुमटी) खोल कर उन्हे रोजगार से जोड़ेगें। उल्लेखनीय है कि इससे पहले राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से कलेक्ट्रेट परिसर में भी आजीविका दीदी कैफे के माध्यम से कैंटीन का संचालन किया जा रहा है।

jay singh gurjar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned