scriptsheopur | गांवों में समूह की महिलाएं करेंगी नलजल योजनाओं का संचालन | Patrika News

गांवों में समूह की महिलाएं करेंगी नलजल योजनाओं का संचालन

locationश्योपुरPublished: Oct 07, 2022 11:22:51 am

Submitted by:

jay singh gurjar

-जल जीवन मिशन के तहत स्वसहायता समूह की महिलाओं को दी पेयजल सप्लाई की जिम्मेदारी

गांवों में समूह की महिलाएं करेंगी नलजल योजनाओं का संचालन
गांवों में समूह की महिलाएं करेंगी नलजल योजनाओं का संचालन
श्योपुर,
आजीविका मिशन के तहत विभिन्न गतिविधियों से जुड़ी स्वसहायता समूह की महिलाएं अब गांवों में नलजल योजनाओं का भी संचालन करेंगी। इसके लिए पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने तैयारी कर ली है। जिसके तहत जिले में पहले चरण में 32 गांवों का चयन किया गया है, जिनमें स्वसहायता समूहों की महिलाओं को नलजल योजनाओं के संचालन की जिम्मेदारी दी जा रही है।

ये महिलाएं नल-जल योजना संचालित करने के साथ ग्रामीणों से जलकर की वसूली भी करेंगी। इससे गांवों में पेयजल संकट से निजात मिलेगी और जलधारा महिला स्वसहायता समूहों की आजीविका की राह भी बनेगी। बताया गया है कि जल जीवन मिशन के तहत घर-घर नलों से पानी पहुंचाने की कवायद के तहत नलजल योजनाओं का विस्तार किया जा रहा है। हालांकि जिले में कुल 236 ग्राम पंचायतें हैं, लेकिन कुछ पंचायतों के गांवों में एनआरएलएम के समूह की महिलाओं को योजनाओं के संचालन की जिम्मेदारी दी जाएगी। इसी के तहत जिले में कुछ गांवों में पंचायत और समूह के बीच एमओयू हो चुका है, जबकि कुछ मेें प्रक्रिया चल रही है।

संधारण और जलकर वसूली भी करेंगी
आमतौर पर नल जल योजना के संचालन में बजट की कमी, जल-कर नहीं मिलने की वजह से बिजली कनेक्शन कट जाते हैं और जल प्रदाय ठप हो जाता है। लेकिन अब समूह की महिलाओं को इसे जवाबदारी से संचालित करने के साथ ही योजना का संधारण, जलकर वसूली, बिजली बिल जमा करने की प्रक्रिया भी की जाएगी। नल-जल योजना संचालित करने के लेकर वसूली भी समूह की महिलाएं करेगी। वसूली से मिलने वाली राशि से समूह की महिलाओं की आजीविका भी बढ़ेगी।

इन गांवों में मिली समूहों को जिम्मेदारी
एनआरएलएम के समूहों को जिन गांवों में नलजल योजना संचालन की जिम्मेदारी मिली है, उनमें गोहरा, सुनवई, अगरा, वीरपुर, चिलवानी, अजापुरा, मऊ, पांडोला, मेखड़ाहेड़ी, प्रेमसर, जैनी, कुहांजापुर, मकड़ावदाकला, शंकरपुर, लूंड, कलारना, चैनपुरा, आवदा, कराहल, सिलपुरी, गोरस, कलमी ककरधा, बरगवां, हीरापुर आदि गांव शामिल हैं।
एमओयू हो चुका है
समूह की महिलाओं को नलजल योजनाओं के संचालन की जिम्मेदारी दी जा रही है। जिले में 32 गांवों का चयन किया गया है, इनमें कुछ पंचायतों के साथ समूहों का एमओयू हो चुका है।
डॉ.सोहनकृष्ण मुदगल
डीपीएम, आजीविका मिशन श्योपुर

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.