दो घंटे तक समझाया तब जाकर बच्चे को एनआरसी ले जाने राजी हुए परिजन

दो घंटे तक समझाया तब जाकर बच्चे को एनआरसी ले जाने राजी हुए परिजन
दो घंटे तक समझाया तब जाकर बच्चे को एनआरसी ले जाने राजी हुए परिजन

Vivek Shrivastav | Updated: 12 Oct 2019, 08:00:00 AM (IST) Sheopur, Sheopur, Madhya Pradesh, India

आंगनबाड़ी केन्द्र ग्राम गोरस का मामला

 

 

कराहल. ग्राम गोरस स्थित आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचकर ग्रोथ मॉनीटरों ने गांव का भ्रमण कर कुपोषित बच्चों की पड़ताल की। घर-घर जाकर उन्होंने कुपोषित बच्चों को चिह्नित किया। इस दौरान एक बच्चा कुपोषित हालत में मिला। जिसे एनआरसी में भर्ती करने के लिए परिजनों को बोला गया, लेकिन परिजन बच्चे को एनआरसी में भर्ती करने के लिए राजी नहीं हुए।


बताते हैं कि इससे पहले भी इस बच्चे को एनआरसी में भर्ती कराने के लिए परिजनों को समझाइश दी गई थी, लेकिन उन्होंने बच्चे को भर्ती नहीं कराया था। बल्कि ग्रोथ मॉनीटर से अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुएएनआरसी जाने से साफ इनकार कर दिया गया था। शुक्रवार को ग्रोथ मॉनीटर विनोद आर्य, अजय आर्य व धीरज राठौर कुपोषित बच्चे के पिता से मिले। करीब दो घंटे तक उसे समझाया गया।

दो से तीन घंटे की काउंसलिंग के बाद पिता बच्चे को एनआरसी भर्ती करने के लिए तैयार हुआ। इसके बाद 108 एम्बुलेंस की मदद से कराहल एनआरसी में बच्चे को भर्ती कराया जा सका।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned