मार्च तक पूरी होगी भू-अर्जन की प्रक्रिया, फिर बनेगी डीपीआर

नेशनल हाइवे 552 एक्सटेंशन के निर्माण के लिए तेज हुई कवायद, सबलगढ़ तहसील में एनएच और ब्रॉडगेज की जमीन एक ही जगह होने का फंसा पेंच

श्योपुर,
श्योपुर से गुजरने वाले नेशनल हाइवे 552 एक्सटेंशन के निर्माण के लिए कवायद तेज हो गई है। इसके लिए मार्च तक भू अर्जन की प्रक्रिया कंपलीट की जाएगी, जिसके बाद डीपीआर बनेगी। वहीं अगले वित्तीय वर्ष में टेंडर प्रक्रिया होगी, जिसके बाद धरातल पर निर्माण शुरू हो जाएगा।


बताया जा रहा है कि एनएच-पीडब्ल्यूडी शाखा ने इस हाइवे के लिए जमीन अधिग्रहण के प्रस्ताव बनाए जा रहे हैं। इसमें फॉरेस्ट लैंड, राजस्व और निजी जमीनों के प्रकरण बनाए जा रहे हैं। बताया गया है कि मुरैना जिले की सबलगढ़ तहसील में लगभग 10-12 किलोमीटर के क्षेत्र में ब्रॉडगेज प्रोजेक्ट और नेशनल हाइवे के लिए जमीन एक ही जगह होने से थोड़ी प्रतिकूल स्थितियां बन रही है। यही वजह है कि अब राजस्व कर्मचारी नए सिरे से प्रस्ताव तैयार कर रहे है। इसके लिए एनएच, रेलवे और प्रशासन के अफसरों की एक बैठक हो चुकी है और एक बैठक इसी माह के अंत में होगी। बताया जा रहा है कि मार्च माह तक भू अर्जन की प्रक्रिया पूरी करनी है। उल्लेेखनीय है कि नेशनल हाइवे 552 एक्सटेंशन राजस्थान के टोंक से निकलकर सवाईमाधोपुर, श्योपुर, मुरैना, भिंड होते हुए चिरगांव(झांसी) तक का है।


...इधर 15 लाख में बनेगा दांतरदा में 120 मीटर का टुकड़ा
नेशनल हाइवे 552 एक्सटेंशन के अंतर्गत ही दांतरदा से गुजर रहे हाइवे में बरसों से हो रहे गड्ढे केा अब दुरुस्त करने की कवायद की जा रही है। इसके लिए लगभग 15 लाख रुपए की लागत से टेंडर दिया गया है, जिसमें 120 मीटर का ये टुकड़ा बनाया जाएगा। हालांकि इसके लिए ठैकेदार ने नाला भी खोद दिया है, लेकिन उसके बाद काम बंद कर दिया है, जिससे ये परेशानी का सबब बन गया है। लेकिन अफसरों का कहना है कि 8-10 दिन में ये कार्य पूर्ण करा दिया जाएगा।

jay singh gurjar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned