दूसरों की जान बचाने में खुद की जान पड़ गई खतरे में

कोरोना से चल रही जंग में तहसीलदार, डॉक्टर और तीन स्वास्थ्यकर्मी हो गए संक्रमित

श्योपुर. कोरोना से जंग लड़ रहे योद्धाओं की जिंदगी भी खतरे में पड़ गई है। कोरोना से दूसरों की जान बचाने के दौरान श्योपुर तहसीलदार सहित डॉक्टर और तीन स्वास्थ्यकर्मी संक्रमित हो गए हैं, मगर इसके बाद भी कोरोना योद्धाओं के हौसलों में कोई कमी नहीं आई है। कोरोना योद्धा अब भी कोरोना के खिलाफ जी जान से लड़ रहे हैं।


कोरोना संक्रमित होने के बाद जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती कराई गई स्टाफ नर्स ने कोरोना से लड़कर उसे हरा दिया और बीते रोज स्वस्थ होकर अस्पताल से डिस्चार्ज भी हो गई, जबकि शेष बचे कोरोना योद्धा भी जल्द कोरोना को हराकर स्वस्थ्य हो जाएंगे। ऐसी उम्मीद, उनके इलाज में जुटे जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने जताई है। डॉक्टरों का कहना है कि डॉक्टर, लैब टेक्नीशियन और तहसीलदार श्योपुर भी जल्द ही स्वस्थ हो जाएंगे।


केस-1
संकमित को उपचार उपलब्ध कराने से संक्रमित हो गई नर्स
ग्राम जावदेश्वर निवासी कोरोना संक्रमित युवक को जिला अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान स्टाफ नर्स ने डॉक्टर के निर्देश पर इलाज उपलब्ध कराया। इलाज उपलब्ध कराने के दौरान स्टाफ नर्स संक्रमित हो गई। इसके बाद स्टाफ नर्स को जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती रहकर इलाज करवाना पड़ा। बताया गया है कि स्टाफ नर्स ने कोरोना को हरा दिया, जिस कारण उसे जिला अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।
केस-2
इलाज उपलब्ध कराने में डॉक्टर हो गए संक्रमित
बड़ौदा निवासी एक वृद्ध को नाजुक स्थिति में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसका जिला अस्पताल के एक डॉक्टर द्वारा इलाज किया गया। डॉक्टर की माने तो उस समय वृद्ध की स्थिति इतनी नाजुक थी कि इलाज में थोड़ा भी विलंब उसकी जान पर भारी पड़ सकता था। इसलिए उसे इलाज उपलब्ध कराया। मगर वह वृद्ध कोरोना संक्रमित निकला। जिस कारण उसका इलाज करने वाले डॉक्टर भी संक्रमित हो गए।
केस-3
जांच करने के दौरान लैब टेक्नीशियन भी हो गए संक्रमित
जिला अस्पताल के एक लैब टेक्नीशियन भी कोरोना संक्रमित हो गए। बताया गया है कि मेवाड़ा कछार निवासी कोरोना संक्रमित वृद्ध की जांच के दौरान लैब टेक्नीशियन संक्रमित हो गए, क्योंकि वह वृद्ध टीबी का मरीज भी था और लैब टेक्नीशियन की तैनाती टीबी जांच सेंटर में ही थी।
केस-4
कंटेनमेंट जोन में सर्वे करने के दौरान संक्रमित हो गया ऑपरेटर
कराहल में एक महिला के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद वहां कंटेनमेंट जोन बनाया गया, जिसमें कराहल अस्पताल के कम्प्यूटर ऑपरेटर द्वारा भी सर्वे किया गया। सर्वे के दौरान कम्प्यूटर ऑपरेटर संक्रमित हो गया। जिसके बाद उसे जिला अस्पताल में भर्ती किया गया।
केस-5
कोरोना से लड़ते-लड़ते तहसीलदार भी हो गई संक्रमित
अफसरों के निर्देश पर श्योपुर तहसीलदार कभी कंटेनमेंट जोन में ड्यूटी संभालने तो कभी क्वॉरंटीन सेंटरों पर क्वॉरंटीन लोगों की परेशानी जानने पहुंच रही थी, जबकि शहर सहित आसपास के क्षेत्र में लोग लॉकडाउन का पालन कराने के लिए भी जा रही थी। इस दौरान तहसीलदार श्योपुर संक्रमित हो गई। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उनको आइसोलेशन में भर्ती कराया गया।

संक्रमित हुई जिला अस्पताल की स्टाफ नर्स को डिस्जार्च कर दिया है, जबकि तहसीलदार, डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की स्थिति में सुधार है। उनको भी जल्द ही डिस्जार्च कर दिया जाएगा।
डॉ. आरबी गोयल, सिविल सर्जन, श्योपुर

महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned