आवागमन के साधन बंद, जयपुर से श्योपुर पैदल आ रहे मजदूर

लॉकडाउन से मजदूरों पर दोहरी मार, बेरोजगार होने के साथ ही घर पहुंचने के लिए भी करनी पड़ रही मशक्कत

By: jay singh gurjar

Published: 27 Mar 2020, 07:00 AM IST

श्योपुर,
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने देशव्यापी लॉकडाउन का असर गरीब और मजदूर वर्ग पर ज्यादा पड़ रहा है। स्थिति यह है कि लॉकडाउन के चलते कंपनियों और फैक्ट्रियों ने मजदूरों को घर जाने के लिए कह दिया है, ऐसे में अब आवागमन के साधनों के अभाव में मजदूर पैदल ही अपने घर पहुंचने के लिए मशक्कत कर रहे हैं।


श्योपुर जिले के ही सैकड़ों मजदूर हैं जो जयपुर व अन्य शहरों से आवागमन के साधनों के अभाव में पैदल ही अपने घरों को आ रहे हैं। श्योपुर के ढोढर क्षेत्र के आधा सैकड़ा मजदूर बीते रोज जयपुर से पैदल रवाना हुए और चाकसू में रात गुजारी। इन मजदूरों के समक्ष दोहरा संकट ये है कि एक तो खाने-पीने की सामग्री का अभाव है, दूसरा सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलना पड़ रहा है। हालांकि रास्तों समाजसेवी संस्थाओं के माध्यम से खाना आदि की व्यवस्था हो रही है, लेकिन गांव तक पहुंचाने के लिए वाहनों की व्यवस्था नहीं हो रही है। जिससे सैकड़ों मजदूर परेशान हो रहे हैं।


दिहाड़ी मजदूरों के समक्ष रोजी रोटी का संकट
लॉकडाउन से दिहाड़ी मजदूरों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। दिन भर दिहाड़ी मजदूरी के बाद शाम को मिलने वाले मेहनताने से घर की रोजी रोटी चलती है, लेकिन अब लॉकडाउन से मुश्किलें आ रही है। ऐसे में प्रशासन अब ऐसे लोगों का सर्वे कराकर सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से खाना, दवाई व अन्य जरुरत की चीजें पहुंचाने की कवायद में जुटा है।

jay singh gurjar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned