जहां गुंजायमान रहते थे जयकारे,वहां पसरा सन्नाटा

सूने पड़े मंदिर,नवरात्रि होने के बाद भी दर्शनों के लिए नहीं पहुंच रहे श्रद्धालु
कोरोना वायरस का कहर,भक्तो से दूर हो गए भगवान

श्योपुर,
दुनियाभर में मौत का तांडव मचा रहे कोरोना वायरस का असर ऐसा पड़ा कि चैत्र नवरात्रि में जिन देवी मंदिरों में माता के जयकारे गुंजायनमान रहते थे,दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं की अपार भीड़ उमड़ती थी,वहां अब सन्नाटा पसरा है। ग्रामीण क्षेत्र के मंदिरों में नौ दिन तक गुंजने वाली अखंड रामायण की चौपाईयां भी सुनाई नहीं दे रही है। मंदिर के कपाट बंद है। श्रद्धालु दर्शनों के लिए मंदिरों में नहीं पहुंच रहे है। जिससे मंदिर सूने पड़े है।
दरअसल चैत्र नवरात्रि में शहर सहित जिले के देवी मंदिरों में कई धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। वहीं कई स्थानों पर मेले भी लगते है। मगर कोरोना वायरस के चलते मंदिरों में न तो दर्शनों के लिए श्रद्धालु पहुंंच रहे है और न ही कोई धार्मिक कार्यक्रम आयोजित हो रहा है। मेले भी स्थगित कर दिए गए है। मंदिरों में सिर्फ पुजारी पूजा कर रहे है। जबकि श्रद्धालु घर में ही मातारानी की आराधना कर रहे है। मंदिरों की पूजा में लगे पुजारियों ने बताया कि ऐसी स्थिति उन्होने न तो कभी देखी है और न ही सुनी है। पुजारियों का कहना है कि जिस खतरे के कारण भक्त और भगवान के बीच दूरी हुई है,वह बेहद ही भयावह है। मगर अस्थाई ही है। इसलिए भक्त घर पर ही कुलदेवी की सच्ची श्रद्धा के साथ पूजा करें। उनकी कुलदेवी रक्षा करेगी और उनकी पूजा भी स्वीकार करेगी।


दुर्गा माता मंदिर
शहर के हजारेश्वर पार्क स्थित दुर्गा माता मंदिर पर नवरात्रि के चलते श्रद्धालुओं की तांता दिनभर लगा रहता था। मगर इन दिनों मंदिर सूना है। यहां दर्शनों के लिए श्रद्धालु नहीं पहुंच रहे है। सिर्फ पुजारी ही माता की पूजा अर्चना कर रहे है।

खुलखुली माता मंदिर
पाली रोड स्थित खुलखुली माता मंदिर शहर का प्राचीन मंदिर है। यहां नवरात्रि के चलते कई धार्मिक कार्यक्रम होते है। मगर इन दिनों मंदिर परिसर सूना पड़ा है। मंदिर के कपाट दिनभर बंद रहते है। सिर्फ पूजा अर्चना के लिए सुबह शाम खुलते है।

बडवासन माता मंदिर
बड़ौदा के बड़वासन माता मंदिर पर नवरात्रि के दौरान अखंड रामायण पाठ का आयोजन हर साल होता है। मगर इन दिनों यह कार्यक्रम स्थगित कर दिया है। श्रद्धानु भी मंदिर में दर्शनों के लिए नहीं पहुंच रहे है। जिससे मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा है। सिर्फ पुजारी ही माता की पूजा अर्चना कर रहे है।

पनवाड़ा माता मंदिर
कराहल के ग्राम पनवाड़ा स्थित अन्नापूर्णा मंदिर पर नवरात्रि पर्व पर विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। वहीं मेले का आयोजन भी होता है। मगर कोरोना वायरस के कारण सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए है। जिससे मंदिर परिसर सूना पड़ा है। दर्शनों के लिए मंदिर पर इक्का दुक्का लोग ही पहुंच रहे है। जबकि पुजारी सुबह शाम माता की पूजा कर रहे है।

Laxmi Narayan Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned