नर्स बोली..पांच घंटे बाद होगी डिलीवरी, इधर टॉयलेट में हो गया प्रसव

प्रसव होने के बाद टॉयलेट की तरफ दौड़ा मेटरनिटी वार्ड का स्टॉफ

श्योपुर । जिला अस्पताल की मेटरनिटी विंग में शनिवार की सुबहटॉयलेट में प्रसव हो गया। प्रसव के लिए अस्पताल पहुंची गर्भवती से मेटरनिटी विंग में ड्यूटी पर तैनात नर्स ने चैकअप करने के बाद पांच घंटे बाद प्रसव होने की बात कहते हुए वार्ड में जाकर आराम करने की बात कही थी। गर्भवती महिला कुछ देर आराम करने के बाद टॉयलेट गई। उसी दौरान प्रसव हो गया। प्रसूता के साथ मौजूद उसकी सास ने इस घटनाक्रम के बाद मेटरनिटी विंग स्टॉफ को आवाज लगाई, तब स्टॉफ दौड़ता हुआ वहां पहुंचा और जच्चा-बच्चा को वार्ड में भर्ती किया।


ग्राम ननावद निवासी गर्भवती माया पत्नी राकेश बैरवा को प्रसव पीड़ा होने पर शनिवार की सुबह साढ़े चार बजे परिजन जिला अस्पताल लेकर पहुंचे थे। मेटरनिटी विंग में ड्यूटी पर तैनात नर्स ने गर्भवती माया का चैकअप करने के बाद कहा कि अभी डिलीवरी होने में पांच घंटे से ज्यादा समय लगेगा। इसलिए तब तकवार्ड में जाकर आराम करो। नर्स के कहने पर माया के परिजन बेफिक्र हो गए। लेकिन कुछ देर बाद ही टॉयलेट में प्रसव हो गया। माया ने लडक़े को जन्म दिया।


प्रसव होने पर सास चिल्लाई, तो दौड़ा स्टॉफ
टॉयलेट में प्रसव होने के बाद प्रसूता की सास गीता बाई चिल्लाई। इसके बाद मेटरनिटी विंग का ड्यूटी स्टॉफ दौड़ते हुए टॉयलेट तक पहुंचा। इसके बाद जच्चा-बच्चा को सुरक्षित वार्ड तक पहुंचाया गया और इलाज शुरू किया।


पांच घंटे बताए थे, डिलीवरी होने में
बहू की पहली डिलीवरी थी। नर्सों ने कहा था कि पांच घंटे बाद डिलीवरी होगी। मगर कुछ देर बाद ही टॉयलेट में डिलीवरी हो गई। नर्सों को जब बताया तो वह गुस्सा करने लगी। बाद में बहु और बच्चे को वार्ड में लेकर आ गईं।
गीता बाई बैरवा, प्रसूता की सास

मुझे मामले की जानकारी नहीं है। अगर ऐसा हुआ है तो इसकी जानकारी लेकर मामले की जांच कराई जाएगी, ऐसा कैसे हुआ।
डॉ. एनसी गुप्ता, सीएमएचओ, श्योपुर

रामरूप तोमर Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned