बुलेट की किस्त व गर्लफ्रेंड के खर्च उठाने के लिए की थी 18 लाख की लूट

नशे की लत के आदी हैं पकड़े गए बदमाश, 11 लाख 26 हजार बरामद।

By: shatrughan gupta

Published: 28 Nov 2020, 11:01 PM IST

शिवपुरी. जिले के कोलारस कस्बे में कोलारस थाने से महज 150 मीटर दूर हुई 18 लाख रुपए की लूट के मामले को पुलिस ने ट्रेस करते हुए 4 में से 3 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। इनके पास से लूटी गई 18 लाख रुपए की रकम में से 11 लाख 26 हजार रुपए बरामद कर लिए है। बताया जा रहा है कि बदमाशों को नशे की आदत है और किसी को बुलेट की किश्त अदा करनी थी तो किसी को गर्लफैं्रड के खर्च उठाने थे। ऐशो आराम की जिंदगी जीने के फेर में बदमाशों ने इस घटना को अंजाम दे डाला। अभी चौथा आरोपी फरार है, जिससे शेष राशि बरामद करने की बात पुलिस कह रही है। जानकारी के मुताबिक 24 नवंबर 2020 को दोपहर करीब 1.30 बजे कोलारस के श्रीराम दाल मिल के मालिक गिर्राज सिंघल के पुत्र गर्वेश के साथ हुई 18 लाख रुपए की लूट की घटना होने के बाद से एसपी राजेश सिंह चंदेल ने खुद मोर्चा संभाल लिया था। एसपी चंदेल ने कोलारस में रहकर इस घटना के बारीकी से तार जोड़े, जिसके बाद जैसे-तैसे मिले सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बदमाशों की पहचान करना शुरू हुई। कुछ बड़े बदमाशों को राउंडअप कर जब पुलिस ने गहरी पड़ताल की तो पता चला कि इस घटना को डोंगरपुर के जोराबर सरदार, भरत चौहान, सेसई का बलवंत सरदार व निगोदा के साहब सिंह सरदार ने अंजाम दिया था। इनमें से जोराबर, बलवंत व भरत चौहान बुलेट पर सवार थे, जबकि साहब सिंह कृष्णा हार्डवेयर पर खड़ा होकर पूरी घटना पर नजर रखे हुए था। पुलिस ने इस मामले में भरत चौहान को छोड़ शेष तीनों को पकड़कर उनके पास से 11 लाख 26 हजार रुपए बरामद कर लिए हैं। बताया जा रहा है कि भरत को पुलिस शक्ल से नही जानती थी और उसको जैसे ही अपने साथियों के पकडऩे की जानकारी लगी तो वह अपने घर से गायब हो गया। भरत को पुलिस ने पारागढ़ के जंगलों में काफी तलाशा, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया।

दाल मिल के सामने डेयरी से भी जुड़े हो सकते हैं रैकी के तार
सूत्रों की मानें तो इस लूट में दाल मिल के सामने एक डेयरी है। यहां बदमाशों का अक्सर आना-जाना होता था। बदमाशों ने पुलिस से पूछताछ में रैकी करने के मामले में डेयरी चलाने वालो का भी नाम बताया है। इधर पुलिस ने केवल 4 लोगो पर ही प्रकरण दर्ज किया है। ऐसे में कहीं न कहीं रैकी करने वाले लोगो को बचाने के कवायद सामने आ रही है। अब पुलिस जांच का विषय है कि हकीकत में डेयरी वालों का इस मामले से क्या लेना-देना है।

6 हजार रुपए हर माह आती थी किस्त
पूछताछ में बुलेट मालिक बलवंत सरदार ने बताया, उसने बुलेट किश्तों पर खरीदी है। हर माह 6 हजार रुपए इसकी किश्त देनी पड़ती है। इसके अलावा उसकी गर्लफै्रंड भी है, जिसके खर्चे वह वहन नहीं कर पा रहा था। इसके अलावा चारों बदमाश नशे के शौकीन हं और उनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वह आराम से अपने नशे व शौक पूरे कर सकें। इसी के चक्कर में उन्होंने चार-पांच दिन गर्वेश की बैंक से पैसे लाने ले जाने की रैकी की और फिर वारदात को अंजाम दिया।

इनाम की राशि से लगेेंगे सीसीटीवी कैमरे
आइजी अविनाश शर्मा ने पुलिस टीम को 30 हजार रुपए व व्यापार मंडल ने 51 हजार रुपए का इनाम में देने की घोषणा की है। एसपी चंदेल ने बताया, इनाम की राशि से कोलारस में प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाएंगे। साथ ही उन्होंने अन्य लोगों से भी अपील की है कि वह कैमरे लगवाने में सहयोग करें।

बुलेट और मोबाइल चालू होने से जल्द मिल गए बदमाश
कोलारस के कुछ नामचीन बदमाशों को पकड़कर पुलिस ने जब बुलेट व फुटेज के आधार पर पूछताछ की तो एक बदमाश ने बताया कि सेसई के बलवंत सरदार के पास ऐसी काले रंग की बुलेट है। साथ ही साहब सिंह सरदार की भी पुलिस को सूचना मिल गई। इसके बाद पुलिस ने इनके मोबाइल कॉल डिटेल को खंगाला तो सभी के मोबाइल चालू थे और फिर लोकेशन से पुलिस ने एक के बाद एक तीन को पकड़ लिया। चौथा बदमाश भी जल्द पुलिस पकड़ में होगा। इस पूरे घटनाक्रम का मास्टरमांइड बलवंत सरदार है। बताते हैं, बलवंत क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरी भी करता था।

shatrughan gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned