सिर झुकाकर चलें जंगलों में : डीआईजी

shyamendra parihar

Publish: Feb, 14 2018 11:06:35 (IST)

Shivpuri, Madhya Pradesh, India
सिर झुकाकर चलें जंगलों में : डीआईजी

सीआरपीएफ के नवआरक्षकों का पोहरी के जंगल में 7 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित

 

पोहरी. सीआरपीएफ के नवआरक्षकों को आउटडोर प्रशिक्षण देने शिवपुरी में एक माह का शिविर लगाया गया। इसी क्रम में नवआरक्षकों को जंगली क्षेत्र से परिचित कराने तथा इन हालातों में रहने के लिए विशेष ट्रेनिंग के लिए पोहरी के ग्राम ककरा में सात दिवसीय प्रशिक्षण शिविर लगाया गया। इस दौरान आरटीसी जम्मू कश्मीर से सीआरपीएफ के 140 जवानों को सीआरपीएफ के उप कमांडेंट सदराम सिंह, हिमांशु बिंग कमांडर द्वारा विशेष प्रशिक्षण दिया गया। सात दिन तक चले विशेष प्रशिक्षण शिविर का समापन बुधावार को हुआ। इस मौके पर डीआईजी अनिल कुमार सिंह ने जवानों को जंगलो में जाने के बारे में बताया कि जंगलो में सिर उठाकर चलने की बजाय सिर झुकाकर चलिए, निश्चित ही आपको उपलब्धि मिलेगी। जंगलों में बड़े सतर्क तरीके से रहना चाहिए, जिससे दुश्मन को इस बात का अंदाजा न लग सके। समापन समारोह मेें सीआरपीएफ के जवानों के साथ-साथ पोहरी एसडीओपी अशोक घनघोरिया, थाना प्रभारी राजेन्द्र शर्मा मौजूद रहे। कार्यक्रम के अंत में प्रशिक्षण प्रभारी ने बताया कि इस प्रशिक्षण के बाद शिवपुरी में सीआईएटी का प्रशिक्षण मार्च में होगा। प्रशिक्षण उपरांत जवानों को 28 मार्च को देश के विभिन्न हिस्सों में भेजा जाएगा।
नवआरक्षकों ने फिल्मी गानों पर दी प्रस्तुति
पोहरी के नजदीक स्थित ग्राम ककरा के जंगलों में 7 दिन तक चले विशेष प्रशिक्षण शिविर के समापन अवसर पर नवआरक्षकों ने फिल्मी गानों व देशभक्ति गीतों पर एक से बढक़र एक शानदार प्रस्तुति दी। साथ ही हास्य चुटकुलों को सुनाकर उपस्थित सभी को गुदगुदाने पर मजबूर कर दिया। इस दौरान जवान व अधिकारियों ने कार्यक्रमों का जमकर लुत्फ उठाया। पोहरी एसडीओपी अशोक घनघोरिया ने सीआरपीएफ के अधिकारियों सहित जवानों का माल्यर्पण कर स्वागत किया।
ठंडाई पीने से आधा सैकड़ा लोगों की हालत बिगड़ी
शिवपुरी. पत्रिका. शहर की सुनार गली में मंगलवार को महाशिवरात्रि के चलते स्वर्णकार समाज के लोगों ने मिलकर ठंडाई का कार्यक्रम रखा। इस दौरान आधा सैकड़ा से अधिक लोगों ने जमकर भांग मिली ठंडाई पी। बाद में अचानक से न जाने क्या हुआ ठंडाई पीने वाले लोगो की तबियत बिगड़ गई। हालात यह हो गए कि करीब आधा सैकड़ा लोगों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। सुबह होने तक सभी लोग अस्पताल में रहे, बाद में सुबह हालात सही होने पर सभी को छुट्टी दे दी गई है।

 

1
Ad Block is Banned