Bird Flu : पूरे जिले में धड़ाधड़ मर रहे पक्षी, अलर्ट पर प्रशासन, आप न करें ये गलती

फैलता जा रहा वायरस : नेशनल पार्क में आज लिए जाएंगे प्रवासी पक्षियों के बीट सैंपल, घर की छत पर न डालें दाना

शिवपुरी. जिले में कोरोना की तर्ज पर बर्ड फ्लू का संक्रमण भी तेजी से फैलने लगा और रविवार को बर्ड फ्लू कंट्रोल रूम पर 15 पक्षियों के मरने की जानकारी आई है। इसमें बदरवास में मृत हुए दो मोर को शामिल नहीं किया गया। जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में मर रहे पक्षियों को देखकर यह कहा जा सकता है कि जिले में बर्ड फ्लू ने अपना दायरा बढ़ा लिया। पक्षियों की मौत को देखते हुए जहां जिला प्रशासन व पशु चिकित्सा विभाग अलर्ट है, वहीं माधव नेशनल पार्क में भी टीमों ने सतत मॉनीटरिंग करना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं सोमवार को नेशनल पार्क की झीलों में आए प्रपासी पक्षियों की बीट के सैंपल जांच के लिए भेजे जाएंगे। प्रशासन ने आमजन से यह अपील की है कि लोग अपने घरों की छत पर इन दिनों पक्षियों के लिए दाना न डालें तथा पक्षियों से अभी दूरी बनाकर रखें।

Bird Flu : पूरे जिले में धड़ाधड़ मर रहे पक्षी, अलर्ट पर प्रशासन, आप न करें ये गलती

रविवार को बर्ड फ्लू कंट्रोल रूम के पास १५ पक्षियो की मौत की जानकारी आई है। इसमें तीन कौए शिवपुरी रेलवे स्टेशन एरिया में, कृष्णपुरम में कबूतर के अलावा एक कौआ गाजीगढ़ में पानसिंह के खेत में, छह कबूतर गाजीगढ़ पोहरी में, दो कबूतर पिछोर तथा एक नरवर व एक कबूतर शिवपुरी में मृत मिला। इसके अलावा एक नीलकंठ पोहरी में मरा मिला है। बर्ड फ्लू कंट्रोल रूम पर बदरवास में मृत हुए राष्ट्रीय पक्षी मोर व तीतर के मृत होने की की जानकारी नहीं पहुंची है।

अब नहीं भेज रहे सैंपल

बर्ड फ्लू दल प्रभारी डॉ. संजीव गौतम ने बताया कि अब यह मान लिया है कि शिवपुरी में बर्ड फ्लू की दस्तक हो गई है तो अब जो भी पक्षी मृत मिल रहे हैं, उन्हें सैंपल के लिए नहीं भेजा जा रहा। प्रोटोकॉल के तहत विनिष्टीकरण कर रहे है।

झीलों में प्रवासी पक्षियों का डेरा

Bird Flu : पूरे जिले में धड़ाधड़ मर रहे पक्षी, अलर्ट पर प्रशासन, आप न करें ये गलती

देश के बर्फीले स्थानों से उडक़र प्रवासी पक्षी भी सैकड़ों की संख्या में आ गए हैं। इनमें बार हेडिड गीज, स्पॉट बिल्ड डक, पिंटेल, रडी शेल्डक, विसलिन डक, ग्रेट कारमोरेंट, लिटिल कारमोरेंट, पेंटेड स्टॉर्क, स्पून बिल्डक, ब्लैक विंग स्टिल्ड, सेंड पाइपर जैसी प्रजातियों के पक्षी शामिल हैं। यह अपने साथ कोई बर्ड फ्लू का खतरनाक स्ट्रेन न ले आए हों, इसलिए उनकी बीट के सैंपल लेने के लिए सोमवार को टीम झीलों के किनारे पहुंचेगी। इतना ही नहीं नेशनल पार्क प्रबंधन ने भी अपने स्टाफ को निर्देश जारी कर दिए हैं कि वे सतत पार्क एरिया में घूमकर यह देखते रहें कि स्थानीय या प्रवासी पक्षी मर तो नहीं रहे।

आमजन से अपील: छत पर न डालें दाना

शहर में कई लोग ऐसे हैं, जो हर दिन अपने घर की छत पर पक्षियों के लिए दाना डालते हैं। पशु चिकित्सा विभाग ने आमजन से यह अपील की है कि वे अपने घर की छत पर अब दाना न डालें तथा पक्षियों को आकर्षित न करें। बर्ड फ्लू वायरस का यह स्ट्रेन अभी जंगली पक्षियों में है और यदि इंसानों के नजदीक आएंगे तो उन्हें भी संक्रमित कर सकते हैं। यह भी कोरोना की तरह संक्रामक बीमारी है, जो छूने से लगती है और इसमें भी कोरोना की तरह ही सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना जरूरी है। प्रशासन ने पोल्ट्री (गाडिय़ो में लाए जाने वाले मुर्गों) के परिवहन पर प्रतिबंध लगा दिया है। अब न तो बाहर से मुर्गे शिवपुरी आएंगे और न यहां के मुर्गे बाहर जाएंगे।

रख रहे हैं सतत निगरानी

नेशनल पार्क की झीलों में इन दिनों प्रवासी पक्षियों की भरमार है तथा वे पक्षी स्थानीय पक्षियों के साथ ही झीलों में रहते हैं। पूरे स्टाफ को स्पष्ट निर्देश जारी किए हैं कि वे सतत मॉनिटरिंग करें तथा यदि कोई भी पक्षी मृत मिलता है तो उसकी जानकारी तत्काल दें।
डॉ. जितेंद्र जाटव, प्राणी चिकित्सक माधव नेशनल पार्क शिवपुरी

बीमारी आ गई, अब सावधानी जरूरी

सैंपल जांच में वर्ड फ्लू वायरस अब क्लियर हो चुका है, इसलिए अब मृत मिल रहे पक्षियों को जांच के लिए नहीं भेजा जा रहा। चूंकि अब सावधानी जरूरी है और उसी की तैयारियां चल रही हैं कि यह संक्रामक बीमारी और अधिक फैल कर घरेलू पक्षियों तक न आ सके।
डॉ. संजीव गौतम, प्रभारी बर्ड फ्लू बचाव दल शिवपुरी

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned