कोरोना का बढ़ता कहर: एक ही दिन में 8 लोगों की मौत

जिले में कोरोना का कहर थामे नहीं थम रहा। शुक्रवार को एक ही दिन में 8 लोगों की सांसें कोरोना से थम गईं। इतना ही नहीं जिला अस्पताल में शुक्रवार की सुबह कोरोना पीडि़त एक युवक की मौत होने के बाद उसका शव 12 घंटे तक अस्पताल की गली में खुला पड़ा रहा।

By: rishi jaiswal

Updated: 23 Apr 2021, 10:46 PM IST

शिवपुरी. जिले में कोरोना का कहर थामे नहीं थम रहा। शुक्रवार को एक ही दिन में 8 लोगों की सांसें कोरोना से थम गईं। इतना ही नहीं जिला अस्पताल में शुक्रवार की सुबह कोरोना पीडि़त एक युवक की मौत होने के बाद उसका शव 12 घंटे तक अस्पताल की गली में खुला पड़ा रहा। जिसके चलते उसका संक्रमण अस्पताल परिसर में फैलता रहा। जब बहुत समय तक नपा का शव वाहन नहीं आया तो मृतक के भाई ने सीएमएचओ से गुहार लगाई, जिस पर सीएमएचओ ने तसल्ली देने की बजाय तल्ख लहजे में कहा कि क्या मैं शव को कंधे पर उठाकर ले जाऊं। सीएमएचओ की यह बात जिसने भी सुनी, वो यही बोला कि क्या डॉक्टर ऐसे ही होते हैं?।


फतेहपुर निवासी राजू आर्य को दो दिन पहले कोरोना पॉजीटिव आया था। उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। शुक्रवार सुबह चार बजे उसकी मौत हो गई। राजू की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन ने राजू के शव को पीपीई किट में पैक कर बाहर कर दिया, परंतु श्मशान घाट नहीं पहुंचाया। अस्पताल परिसर में खुले में रखा यह शव इस दौरान परिसर दिनभर संक्रमण फैलाता रहा। खुले में रखे इस शव को सभी जिम्मेदार अधिकारियों ने देखा, परंतु लापरवाही बरतते हुए अनदेखा कर दिया, तथा शव को वहां से हटवाने तक की जहमत नहीं उठाई।
मृतक के भाई ने जब सीएमएचओ डॉ. एएएल शर्मा से शव को हटवाने तथा शमशान तक पहुंचाने के लिए कहा तो उन्होंने डांटते हुए कहा कि मैं क्या शव को कंधे पर रख कर ले जाऊं। सीएमएचओ की यह बदजुबानी सुनकर वहां मौजूद कुछ लोग तो यहां तक बोले कि इन्हें डॉक्टर किसने बना दिया, जिन्हें मृतक के प्रति संवेदना तो दूर, इतनी बुरी तरह का व्यवहार करते हैं। उल्लेखनीय है कि शिवपुरी जिले में कोरोना संक्रमितों के साथ-साथ अब मौतों का आंकड़ा भी बहुत तेजी से बढऩे लगा। आज शिवपुरी में आठ लोगों की कोरोना के चलते मौत हो गई।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned