चमोली पहुंचे गायब हुए युवकों के परिजनों को जोशी मठ पर रोका

- ओम मेटल कंपनी के 21 लोग हुए लापता

- नहीं मिला किसी का सुराग

- आज सुबह मलबे में होगी तलाश

By: Hitendra Sharma

Updated: 10 Feb 2021, 02:23 PM IST

शिवपुरी. चमोली उततराखंड में आई प्राकृतिक आपदा में गायब हुए सैकड़ों लोगों के साथ शिवपुरी के नरवर व सतनबाड़ा क्षेत्र के चार युवक भी शामिल हैं। इन युवकों के परिजन मंगलवार की देर शाम उत्तराखंड पहुंचे तो उन्हें जोशी मठ पर रोक लिया गया। जिस ओम मेटल कंपनी में उक्त चारों युवक काम करते थे, उस कंपनी के 21 लोग गायब हैं, जिनका अभी तक कोई सुराग नहीं लग सका। बुधवार की सुबह से फिर तलाशी अभियान चलाया जाएगा।

नरवर व ग्राम धमकन के गायब हुए युवकों के परिजनों के साथ नरवर निवासी इलेक्ट्रिशियन पूरन ओझा भी आज देर शाम चमोली से पहले जोशी मठ पहुंचे। पूरन ने बताया कि मैं डैम के गेट बनाने में इलेक्ट्रिक का काम करता हूं तथा मड़ीखेड़ा के अलावा सिक्किम व सिलीगुढ़ी के डैम के गेट भी मैने ही बनाए थे। बकौल पूरन, मुझे भी डेैम के गेट लगवाने के लिए चमोली आना था, लेकिन घर पर जरूरी काम होने की वजह से मैं उस समय नहीं जा पाया था। यदि मैं भी यहां होता तो मेरी भी तलाश में मेरे परिजन यहां आते।

पूरन ने बताया कि हम लोगों को जोशी मठ पर कंपनी के लोगों ने एक लॉज में रुकवा दिया है। हमें बताया गया है कि कंपनी के जो 21 लोग इस आपदा में गायब हुए हैं, वहां पर 30 से 35 फीट ऊंचा मलबा इकठ्ठा हो गया है, जिसमें तलाश करना मुश्किल हो रहा है। चूंकि परिवारजनों को अपने लोगों की चिंता है, इसलिए वे तो रात में ही मलबे के आसपास तलाश के लिए जाने की बात कह रहे थे, लेकिन कंपनी सहित स्थानीय प्रशासन ने कहा है कि बुधवार की सुबह उनकी टीम के साथ परिजन भी चमोली के उस स्थान पर जाएंगे, जहां कंपनी के लोग गायब हुए हैं।

अपने खर्चे पर ही गए हैं परिजन

गायब हुए चारों युवकों के परिजन अभी तो अपने खर्चे पर वाहन करके 1200 किमी दूरी तय करके चमोली पहुंचे हैं। चूंकि अभी तो पहली प्राथमिकता गायब हुए लोगों की तलाश है, उसके बाद आगे की प्रक्रिया शुरू होगी। कंपनी के लोग भी गायब युवकों के परिजनों के साथ पूरी सहानुभूति जता रही है।

 

Patrika
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned