एलपीजी गैस का रिसाव हुआ तो गांव छोड़ भागे ग्रामीण, खेतों में गुजारी रात

Rakesh shukla

Publish: Jun, 14 2018 10:16:29 PM (IST)

Shivpuri, Madhya Pradesh, India
एलपीजी गैस का रिसाव हुआ तो गांव छोड़ भागे ग्रामीण, खेतों में गुजारी रात

पुल से टकराया टैंकर, अगला हिस्सा टैंकर से हटकर पुल से नीचे गिरकर हुआ क्षतिग्रस्त

शिवपुरी/बदरवास. जिले के बदरवास थाना अंतर्गत हाइवे पर ग्राम बूढ़ाडोंगर के पास बुधवार-गुरुवार की रात लगभग 2 बजे गैस भरा टैंकर अनियंत्रित होकर पुल से जा टकराया। हादसे में ट्रक वाला हिस्सा टैंकर से अलग होकर पुल के नीचे जा गिरा, जबकि पुल की दीवार से रगडऩे में उसके आउटर व इनर बॉल्व टूट जाने से गैस का तेज रिसाव होने लगा। गैस की गंध आते ही बूढ़ाडोंगर गांव के लोग आधी रात को अपने घर छोडक़र भागे और पांच किमी दूर खेतों में रात गुजारी। सूचना मिलने पर आधा घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची और एनएफएल की टीम को बुलवाया। महज तीन घंटे में गैस का टैंकर खाली हो गया। महत्वपूर्ण बात यह रही कि पूरी रात एलपीजी गैस का तेज रिसाव होता रहा, लेकिन चालू ट्रेफिक के बीच में कोई गंभीर हादसा नहीं हुआ। यह बात एनएफएल के इंजीनियर भी कह रहे हैं कि इतना तेज रिसाव होने के बाद भी कोई हादसा नहीं हुआ, यह आश्चर्य की बात है।
जानकारी के अनुसार एनएफएल विजयपुर जिला गुना से 17 टन गैस लेकर एक टैंकर कानपुर जा रहा था। रात लगभग 2 बजे जब यह टैंकर ग्राम बूढ़ाडोंगर के पास बने ओवरब्रिज से गुजरते समय ड्राइवर लालू उर्फ भगवत सिंह जादौन निवासी रुठियाई, की लापरवाही के चलते पुल से टकरा गया। हादसा इतना जबर्दस्त था कि टैंकर को लेकर जा रहे ट्रक का अगला पूरा हिस्सा इंजन सहित पुल के नीचे जा गिरा। इस हादसे में टैंकर क्लीनर बबलू उर्फ रूपसिंह पुत्र फतेह सिंह गुर्जर निवासी देहरी थाना धरनावदा जिला गुना गंभीर रूप से घायल हो गया। टैंकर के बॉल्व टूट जाने से गैस का तेज रिसाव होने से उसकी गंध पास के ही गांव बूढ़ाडोंगर में पहुंची तो ग्रामीण समझ गए कि गैस का टैंकर लीक हो गया। चूंकि गैस तीव्र ज्वलनशील निकल रही थी, इसलिए हादसे की आशंका के चलते ग्रामीण अपने परिवारों सहित घर छोडक़र खेतों की तरफ भागे, ताकि वे किसी गंभीर हादसे का शिकार न हो जाएं। किसी आशंका के चलते गैस टैंकर पर फायर ब्रिगेड से पानी डाला गया, फिर उसे के्रन के माध्यम से सीधा करके वापस एनएफएल ले जाया गया।

आधा घंटे बाद पहुंची पुलिस,
हादसे के बाद करीब आधा घंटे बाद बदरवास पुलिस को सूचना मिली तो पुल के नीचे घायल अवस्था में पड़े ड्राइवर व क्लीनर को उपचार हेतु अस्पताल पहुंचाया। लेकिन टैंकर के बॉल्व टूटने से निकल रही गैस की तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया। अलसुबह जब यह पता चला कि गैस टैंकर लीक हो रहा है तो फिर आनन-फानन में एनएफएल को सूचना दी। तब रेस्क्यू टीम प्रभारी एलके प्रसाद, कदम सिंह मीणा, सुनील ठाकुर, प्रधान धाकड़, अर्जुन किरण, पवन लोधा ने जब टैंकर को देखा तो उसमें भरी गैस खाली हो चुकी थी। रेसक्यू टीम के प्रभारी व सदस्यों का कहना था कि हमने पहली बार देखा है कि सेफ्टी बाल्व भी टूट गया, लेकिन कोई अप्रिय घटना नहीं हुई।

दस कदम दूरी पर स्कूल व छात्रावास
ग्राम बूढ़ाडोंगर के नजदीक ओवरब्रिज पर जहां गैस टैंकर दुर्घटनाग्रस्त हुआ, वहां से महज दस कदम की दूरी पर छात्रावास, हायर सेकेंडरी, मिडिल व प्राथमिक स्कूल है। इतना ही नहीं गांव में जाने का रास्ता भी उसी पुल के नीचे से है। ग्राम बूढ़ाडोंगर में आदिवासी बस्ती में करीब एक दर्जन से लोगों को घबराहट एवं उल्टियां होने लगीं। जिला पंचायत सदस्य कोसा बाई ने बताया कि हम रात्रि दो बजे से जगे हुए हैं और गांव से करीब पांच किलोमीटर दूर जाकर रात गुजारी है। लेकिन गैस से हमारे समाज के एक दर्जन लोगों में उल्टी एवं घबराहट हुई।

जैसे ही टैंकर से गैस रिसाव की सूचना मिली, तो हमने ग्रामीणों को सूचना दी और उनसे कहा कि वे गांव से दूर चले जाएं। तब सभी ग्रामीण घर छोडक़र पांच किमी दूर खेतों की तरफ चले गए। क्योंकि गैस रिसाव से गंभीर हादसे का खतरा बना हुआ था।
गोविंद यादव, सचिव ग्राम पंचायत

जैसे ही मुझे घटना की जानकारी लगी तो हमने तत्काल गुना जिले के एनएफएल विजयपुर गैस प्लांट पर सूचना दी। गैस टैंकर के लीकेज से कोई अप्रिय घटना न हो, उसके लिए हमने टीम बुलवाई।
सुजीत भदौरिया, एसडीओपी

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned