महुअर नदी किनारे मिले मामा-भांजे के नर कंकाल

15 दिन से लापता थे दोनों, परिजनों ने नहीं दी थी पुलिस को सूचना

मौके पर मिले रिश्तेदार के आधार कार्ड से हुई मृतकों की पहचान

By: rishi jaiswal

Published: 21 Jul 2021, 10:23 PM IST

शिवपुरी/भौंती/खोड़. शिवपुरी जिले के भौती थाना अंतर्गत परेवादांत मंदिर के पास महुअर नदी किनारे बुधवार को करीब 15 दिन पुराने दो नर कंकाल मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। मामले की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों कंकालों को कब्जे में लेकर पड़ताल शुरू कीतो मौके पर कुछ कपड़े व एक आधार कार्ड मिला। इसके बाद पुलिस ने कुछ ही घंटों में दोनों मृतकों की पहचान कर ली। मामला हत्या से जुड़ा है, जिसमें हत्यारों ने पत्थर से कुचलकर दोनों की हत्या करकेशवों को नदी में फेंक दिया है। पुलिस को मामले में कुछ अहम सुराग मिल गए हंै, जिससे मामला एक या दो दिन में ट्रेस हो सकता है।

भौंती थाना प्रभारी पूनम सविता को सूचना मिली कि परेवादांत मंदिर के पास महुअर नदी किनारे दो नरकंकाल पड़े हुए है। इसके बाद थाना प्रभारी पूनम सविता, खोड़ चौकी प्रभारी उनि राजीव दुबे पुलिस बल के साथ घटनास्थल पहुंचे। यहां पुलिस को कुछ कपड़े व सामान के साथ एक आधार कार्ड मिला, जिस पर धनीराम परिहार व निवासी घोसीपुरा शिवपुरी लिखा हुआ था। पुलिस को पहले लगा कि इनमें से एक शव धनीराम का है, लेकिन जब फिजिकल थाना पुलिस से पड़ताल कराई गई तो धनीराम जीवित पुलिस थाने आ गया और उसने बताया कि कुछ दिन पूर्व उसके रिश्तेदार सुखवीर परिहार ने उसका मोबाइल व आधार कार्ड जबरन अपने पास रख लिया था। इसके बाद पुलिस ने कड़ी से कड़ी मिलाते हुए मृतकों की पहचान कर ली। मृतकों में धनीराम के मामा का बेटा सुखवीर (18) पुत्र अजब सिंह परिहार निवासी ग्राम लोटना व सुखवीर का मामा राजन (26) पुत्र मोतीलाल परिहार निवासी नादिया नयाखेड़ा थाना भौंती शामिल है।

पत्थर से कुचलकर की गई है हत्या
घटनास्थल का देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा है कि हत्यारों ने दोनों की हत्या पत्थर से कुचलकर की और फिर यह सोचकर नदी में फेंक दिया कि बारिश का मौसम है और तेज बारिश के साथ दोनों शव बहकर आगे चले जाएंगे, लेकिन बारिश न होने के कारण दोनों शव पानी में फूलकर किनारे आ गए। चूंकि 15 दिन से अधिक का समय गुजर चुका है, इसलिए शव को मछली व अन्य जंगली जानवर खा गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी राजेश सिंह चंदेल भी घटनास्थल का मौका मुआयना करने पहुंचे तथा अधिनस्थों को आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

मोटर चोर हंै मृतक, परिजनों ने नहीं दी थी सूचना
पुलिस की मानें तो दोनों मामा-भांजे के नाम विद्युत मोटर चोरी में आ चुके है। साथ ही इनका कोई ठिकाना रहता नहीं है। परिजन भी इनके बारे में जानते हैं, इसलिए उन्होंने भी पिछले 20 दिन से इनके गायब होने या घर न आने की सूचना पुलिस में नहीं दी। आज जब पुलिस ने सूचना देकर परिजनों को बुलाया तो उन्होंने कपड़े व अन्य सामान देखकर दोनों की पहचान की।

आधार कार्ड नहीं मिलता तो पहचान हो जाती मुश्किल
घटनास्थल से धनीराम परिहार का आधार कार्ड मिलना पुलिस के लिए एक अहम कड़ी रही जिससे पुलिस ने पहले धनीराम की खोजबीन की और जब वह जीवित मिला तो उससे पूछताछ व अन्य सामान के सहारे मृतकों की पहचान कर ली। पुलिस को मौके से जो सुराग मिले हंै, उससे मामला एक-दो दिन में खुलने की उम्मीद है। मामला मोटर चोरी की घटना से जुड़ा हो सकता है और हत्या करने वाले भी चोर हो सकते हंै।

कुछ सुराग मिले हैं, जल्द करेंगे खुलासा
मामला हत्या से जुड़ा हुआ है। कुछ सुराग मिले हैं, जिन पर हम काम कर रहे हैं और उम्मीद है कि जल्द ही इस दोहरे हत्याकांड का खुलासा कर लेंगे।
- राजीव दुबे, खोड़ चौकी प्रभारी

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned