अब समान्य वर्ग के बच्चों को भी मिलेगा हॉस्टल

पढ़ाई में रहवास की समस्या नहीं आएगी सामने

 

By: shyamendra parihar

Published: 20 Jan 2018, 10:44 PM IST

शिवपुरी. अभी तक सरकार केवल अनुसूचित जाति, जनजाति अथवा पिछड़ा वर्ग के छात्र छात्राओं को ही हॉस्टल की सुविधा मुहैया कराती थी परंतु इस सत्र से सामान्य वर्ग के बच्चों को भी हॉस्टल की सुविधा मुहैया कराई जाएगी।1 अप्रैल 2018 से शुरू होने वाले नवीन शैक्षणिक सत्र में जिला स्तरीय उत्कृष्ट विद्यालय में अध्यन करने वाले किसी भी वर्ग के 100 छात्र और 100 छात्राओं को हॉस्टल की सुविधा मुहैया कराई जाएगी। इस हॉस्टल में बच्चों को भोजन भी पूर्णत: नि:शुल्क प्रदान किया जाएगा। कुल मिलाकर अभी तक जो बच्चे रहवास की समस्या के चलते जिला मुख्यालय पर आकर नहीं पढ़ पाते थे, अब उन्हें परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन शुरू
शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए उत्कृष्ट विद्यालय एवं मॉडल स्कूलों की कक्षा 9 में प्रवेश के लिए आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जो भी विद्यार्थी प्रवेश परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं वह15 फरवरी तक आवेदन कर सकते हैं। इसके बाद मैरिट सूची के आधार पर प्रवेश प्रक्रिया पूरी की जाएगी। कक्षा ९ में प्रवेश के लिए कक्षा 8 में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। प्रवेश परीक्षा ४ मार्च को आयोजित की जाएगी।
फिलहाल किराए के भवन में चलेगा हॉस्टल
अप्रैल माह तक छात्र-छात्राओं के लिए नवीन हॉस्टल बन पाना संभव नहीं है, इस कारण इस सत्र में भवन किराए से लेकर ब्यॉज एवं गल्र्स हॉस्टल का संचालन किया जाएगा। हालांकि फिलहाल यह क्लीयर नहीं हुआ कि हॉस्टल के लिए 100 छात्र व 100 छात्राओं का चयन किस आधार पर और किस प्रक्रिया के तहत किया जाएगा।
&अप्रैल से शुरू होने वाले शैक्षणिक सत्र से जिला स्तर पर उत्कृष्ट विद्यालय में पढऩे वाले हर वर्ग के सौ-सौ छात्र-छात्राओं को हॉस्टल की सुविधा मुहैया कराई जाएगी। अभी तक जो बच्चे रहवास की समस्या के चलते जिला मुख्यालय पर आकर नहीं पढ़ पाते थे, अब उन्हें परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन शुरू
विवेक श्रीवास्तव
प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय

Show More
shyamendra parihar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned