पानी के लिए पंपकर्मियों को डंडों से पीटा

गर्मियों का मौसम अभी ठीक से आया भी नहीं है, लेकिन शिवपुरी शहर में पानी के लिए लोग एक-दूसरे का खून बहाने पर उतारू हो गए। बुधवार की दोपहर गांधी पार्क टंकी पर तैनात तीन कर्मचारियों की आधा दर्जन लोगों ने जमकर मारपीट कर दी। लहूलुहान हुए कर्मचारियों का कहना है कि इन हालातों में हम पानी की सप्लाई नहीं दे पाएंगे।

By: rishi jaiswal

Published: 03 Mar 2021, 11:38 PM IST

शिवपुरी. गर्मियों का मौसम अभी ठीक से आया भी नहीं है, लेकिन शिवपुरी शहर में पानी के लिए लोग एक-दूसरे का खून बहाने पर उतारू हो गए। बुधवार की दोपहर गांधी पार्क टंकी पर तैनात तीन कर्मचारियों की आधा दर्जन लोगों ने जमकर मारपीट कर दी। लहूलुहान हुए कर्मचारियों का कहना है कि इन हालातों में हम पानी की सप्लाई नहीं दे पाएंगे। ज्ञात रहे कि शिवपुरी शहर की अधिकांश टंकियां सिंध जलावर्धन की लाइन से जुड़ गई हैं, लेकिन उनमें पानी इतना कम आ रहा है, कि सभी सप्लाई पूरी नहीं हो पा रहीं। पे्रशर इसलिए कम आ रहा है, क्योंकि ग्वालियर बायपास पर तैनात कर्मचारी सीधे पैसे लेकर न केवल प्राइवेट टैंकर भरवा रहा है, बल्कि वाहनों की धुलाई भी सडक़ पर ही करवा रहा है। यानि सिंध के पानी में भी कमाई करने में जुट गए।


शहर की गांधी पार्क पानी की टंकी पर तैनात नपा कर्मचारी श्रीनिवास चौरसिया, कल्याण कुश्वाह व रामधुन नामदेव अन्य दिनों की तरह बुधवार को भी विभिन्न वार्डों में पानी की सप्लाई कर रहे थे। दोपहर लगभग 2 बजे वार्ड तीन व चार में स्थित दलित बस्ती में रहने वाले आधा दर्जन लोग आए और अचानक इन कर्मचारियों पर हमला बोल दिया। आने वाले लोगों की मंशा भांपते हुए उक्त तीनों कर्मचारी पंप हाउस पर बनी कोठरी में घुसकर दरवाजा बंद कर पाते, तब तक तो इन लोगों ने कोठरी में घुसकर ही उनकी लात-घूंसों व डंडों से जमकर मारपीट कर दी। मारपीट में श्रीनिवास चौरसिया के हाथ में लंबा कट लगा है, जबकि रामधुन के चेहरे पर चोट लगने से खून बह रहा था। मारपीट का शिकार हुए कर्मचारियों का कहना है कि जितना पानी आ रहा है, उतना हम लगातार सप्लाई देकर आपूर्ति कर रहे हैं। लेकिन फिर भी इस तरह हमारे साथ मारपीट की जाएगी तो हम कैसे काम कर पाएंगे। इसलिए अब हम यहां सप्लाई का काम नहीं करेंंगे।

सीधे कमाई के फेर में कम हुआ प्रेशर
शहर की टंकियों व संपवैैल को भरने के लिए ग्वालियर बायपास से सप्लाई दी जाती है। यहां पर तैनात ओम कंस्ट्रक्शन का कर्मचारी सीधे कमाई करने के फेर में टंकियों में सप्लाई का प्रेशर कम करके, मौके पर ही न केवल प्राइवेट टैंकर भरवा रहा है, बल्कि वाहन धुलवा रहा है। यही वजह है कि शहर में सिंध की सप्लाई का प्रेशर कम हो गया, जिसका परिणाम झगड़े के रूप में सामने आ रहा है।

सप्लाई अधिक, पानी का पे्रशर कम
शहर की लगभग सभी पानी की टंकियां व संपवैल सिंध जलावर्धन की पाइप लाइन से जोड़ दिए गए हैं, जिसके चलते सभी जगह पानी की सप्लाई सिंध योजना पर ही आश्रित हो गई। पहले सिंध की सप्लाई का प्रेशर तेज आता था, इसलिए टंकियां व संपवैल जल्दी भर जाते थे तो तैनात कर्मचारी आसानी से सप्लाई दे लेते थो। लेकिन अब पिछले कुछ समय से पानी का पे्रशर कम हो गया है, जिसके चलते टंकियां व संपवैैल भर नहीं पा रहे। जब पानी ही नहीं आ रहा, तो फिर वहां तैनात कर्मचारियों को लोगों का गुस्सा झेलना पड़ रहा है। गांधी पार्क की टंकी से 38 क्षेत्रों में सप्लाई होती है, ऐसे में जबकि पानी कम आ रहा है तो हालात बि$गडऩा तय है।

मैने भी कई बार देखा है कि ग्वालियर बायपास पर प्राइवेट टैंकर भरवाए जा रहे हैं। हमारे कर्मचारियों के साथ मारपीट करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। हम पता करवा रहे हैं कि मारपीट करने वाले कौन लोग हैं।
जीपी भार्गव, सीएमओ नपा शिवपुरी

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned