पेंशन की समस्या का नहीं हुआ समाधान, तो रिटायर्ड बाबू ने सकते में ला दी डीएफओ की जान

रिटायर्ड बाबू ने डीएफओ (DFO) पर दफ्तर (OFFICE) में घुसकर उड़ेला पेट्रोल (PETROL), आग लगाने की भी कोशिश, बाल बाल बची डीएफओ की जान..

By: Shailendra Sharma

Published: 19 Jan 2021, 06:57 PM IST

शिवपुरी. मंगलवार की दोपहर शिवपुरी के डीएफओ कार्यालय में ऐसी घटना हुई जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की होगी। दफ्तर में घुसकर एक बुजुर्ग रिटायर्ड बाबू ने डीएफओ को जिंदा जलाने की कोशिश की और उन पर पेट्रोल डाल दिया। जैसे ही ये घटना घटी दफ्तर में मौजूद सभी लोग हैरान रह गए, किसी तरह दफ्तर में मौजूद अन्य कर्मचारियों ने रिटायर्ड बाबू को पकड़ा जिससे अनहोनी होने से टल गई। बताया जा रहा है कि रिटायर्ड बाबू अपनी पेंशन की शिकायत की सुनवाई न होने से नाराज था।

 

रिटायरमेंट के बाद भी विभाग के चक्कर काट रहा हूं- रिटायर्ड बाबू
डीएफओ पर पेट्रोल डालकर आग लगाने की कोशिश करने वाले रिटायर्ड बाबू का नाम कैलाश नारायण भार्गव है। उन्होंने बताया कि उन्हें विभाग से रिटायर्ड हुए 4 साल से ज्यादा का वक्त गुजर चुका है और तभी से अपनी पेंशन को लेकर विभाग के चक्कर काट रहे हैं। हर बार इसी उम्मीद से आते हैं कि इस बार शायद उनकी शिकायत का निराकरण हो जाएगा। मंगलवार को भी अपनी शिकायत लेकर डीएफओ दफ्तर पहुंचे थे जहां उनकी डीएफओ से बहस हो गई और इसी दौरान गु्स्से में आकर रिटायर्ड बाबू ने डीएफओ के ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगाने की कोशिश की। वहीं दूसरी इस घटना के बाद जब डीएफओ लवित भारती से बात की गई तो उन्होंने बताया कि नियमानुसार रिटायर्ड बाबू कैलाश नारायण भार्गव को पेंशन का भुगतान किया जा रहा है लेकिन नियम विरुद्ध पेंशन की राशि बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। डीएफओ पर पेट्रोल डालकर आग लगाने की कोशिश करने के कारण रिटायर्ड बाबू को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया है। शिवपुरी एसडीओपी सुधीर सिंह का कहना है कि रिटायर्ड बाबू कैलाश नारायण अपनी पेंशन को लेकर कलेक्टर और विधायक व मंत्री तक आवेदन दे चुके हैं और समस्या का समाधान न होने पर 26 जनवरी को जान देने की बात भी उनके द्वारा कही गई है।

देखें वीडियो- फिल्मी स्टाइल में महिला का मंगलसूत्र छीन ले गए बदमाश

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned