बाजार में जो निकले पुलिस ने उन्हें वापस भेजा घर

शिवपुरी बंद के बीच कलेक्टर अनुग्रहा पी एवं एसपी राजेश सिंह चंदेल ने अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ जिला अस्पताल सहित शहर का भ्रमण किया।

शिवपुरी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई जनता कफ्र्यू की अपील का रविवार को हर किसी ने पूरी ईमानदारी से पालन किया। शहर के चौक-चौराहों से लेकर व्यस्ततम बाजार की सड़कों पर दिनभर सन्नाटा पसरा रहा। कुछ लोग शहर बंद के हालात देखने निकले तो पुलिस ने उन्हें समझाइश देकर वापस घर भेजा।

कुछ लोगों ने पुलिस की बात अनसुनी कर वापस सड़क पर नजर आए तो उनके चालान काटे गए। शिवपुरी बंद के बीच कलेक्टर अनुग्रहा पी एवं एसपी राजेश सिंह चंदेल ने अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ जिला अस्पताल सहित शहर का भ्रमण किया।

रविववार सुबह 5.30 व 6 बजे के बीच नियमित मॉर्निंग वॉक पर आने वाले कुछ लोग घरों से बाहर निकले, लेकिन घूमते समय उनकी नजर मोबाइल या हाथ की घड़ी पर रही। जिस पोलोग्राउंड में हर सुबह एक सैकड़ा से अधिक लोगों की भीड़ रहती थी, वहां सन्नाटा पसरा रहा।

सुबह 7 बजे से पहले तक जो इक्का-दुक्का लोग नजर आ रहे थे, वह भी 7 बजने से पहले घर में घुस गए। जनता कफ्र्यू का समय शुरू होने से एक घंटा पूर्व टै्रफिक सहित अन्य पुलिस बल माधव चौक, गुरुद्वारा चौक, पोहरी नाका, गुना नाका, ग्वालियर बायपास पर तैनात हो गया।

जैसे ही सात बजे पुलिसकर्मी अलर्ट हो गए, जो भी वाहन उन्हें नजर आया, उसे रोक कर या तो वापस घर पहुंचाया या फिर किसी को आकिस्मक कारणों से निकलने दिया गया।


कुछ ऐसे रहे शहर के हालात

समय: सुबह 6. 45 बजे
स्थान- पोलोग्राउंड लायंस चौक के पास

हालात: पोलोग्राउंड व लायंस चौक के आसपास लोगों की आवाजाही सुबह 5.30 बजे से शुरू हो जाती है, लेकिन रविववार को एक-दो लोग ही सड़क पर नजर आए। चौराहे के चारों तरफ की सड़कों पर वीरानी छाई हुई थी। हर सुबह सैकड़ों लोगों के लिए मार्निंग वॉक सहित युवाओं की एक्सरसाइज का खेल मैदान (पोलो ग्राउंड) भी सूना नजर आया।
समय: सुबह 7.45 बजे

स्थान: पोहरी चौराहा व बायपास रोड
हालात: शहर के सबसे व्यस्ततम चौराहों में शुमार पोहरी नाके पर पूरी तरह से शांति पसरी हुई थी। इस सन्नाटे को बायपास से निकलने वाले भारी वाहनों की आवाज जरूर तोड़ रही थी।

चूंकि आज रोड पर ट्रैफिक के नाम कोई भी यात्री वाहन या दुपहिया वाहन या पैदल राहगीर नहीं थे, इसलिए बायपास से निकलने वाले भारी वाहन भी तेज रफ्तार में ही शहर के मध्य से निकले।

समय: सुबह 9.45 बजे
स्थान: माधव चौक

हालात: शिवपुरी शहर का हृदय स्थल कहे जाने वाले इस चौराहे की चारों दिशाओं में ट्रैफिक कर्मियों सहित पुलिस जवान तैनात थे। यदि कोई आता-जाता दिखा तो पुलिस ने उन्हें वापस घर भेज दिया।

इस दौरान दो-तीन बाइक पर महिलाएं भी बैठकर निकलीं और उन्होंने किसी के बीमार होने या अन्य कोई कारण बताया तो उन्हें वहां से निकलने दिया।

समय: सुबह 10.45 बजे
स्थान: शिवपुरी बस स्टैंड

हालात: जिस बस स्टैंड पर दिन भर यात्री बसों के हॉर्न की आवाज के अलावा यात्रियों की भरमार रहती थी, वहां पूरी तरह सन्नाटा रहा। यहां कुछ खेतिहर मजदूर अपने परिवार सहित आगरा से मजदूरी करके घर ईसागढ़, मगरौनी जाने के लिए बस से आए, लेकिन यहां उन्हें कोई साधन नहीं मिला।

कराहल श्योपुर की छात्राएं इंदौर से तो बस से आ गईं, लेकिन अपने घर जाने को कोई साधन नही मिला तो परिजन उनके लिए जीप करके आए।


समय: दोपहर 12 बजे

स्थान: रेलवे स्टेशन
हालात: वैसे भी दोपहर के समय शिवपुरी रेलवे स्टेशन पर कोई ट्रेन नहीं होती, लेकिन आज सभी टे्रन बंद होने की वजह से प्लेटफार्म पर पूरी तरह से वीरानी छाई रही। स्टेशन के गेट पर जहां पुलिसकर्मी मास्क लगाकर तैनात थे, वहीं अंदर सफाई कर्मचारी ही नजर आए।

बच्चों व महिलाओं ने अष्टा-चंगा, कैरम व लूडो खेलकर गुजारा दिन
जनता कफ्र्यू के दौरान बच्चों से लेकर बड़े तक घरों में कैद नजर आए। हालांकि इस बंद को उनका भी पूर्ण समर्थन रहा, लेकिन घर में खाली बैठने की बजाए बच्चों ने घर में बैठकर केरम, लूडो व मोबाइल गेम खेले। वहीं महिलाओं ने भी अष्टा-चंगा खेलकर अपना समय गुजारा। घर के बुजुर्ग दिन भर टीवी पर देश भर के हालातों को देखकर जनता कफ्र्यू से अपडेट रहे।

कुछ ऐसे रहे शहर के हालात
शिवपुरी शहर में जनता कफ्र्यू के दौरान बाजार सहित कॉलोनियों में जहां एक तरफ सन्नाटा पसरा हुआ था, वहीं पुलिस अधीक्षक सहित उनका अमला पूरे दिन बाजार में तैनात रहा। सुबह से लेकर शाम तक व्यस्ततम बाजारों की गलियों में पसरे सन्नाटे के बीच वे लोग ही नजर आए, जो किसी जरूरी काम से घर से निकले।

सुबह 11.30 बजे तक शहर के सभी मेडिकल स्टोर बंद थे, लेकिन उसके बाद राजेश्वरी रोड पर दो मेडिकल स्टोर खुल गए। सुबह से पेट्रोल पंप तो चालू रहे, लेकिन पेट्रोल डलवाने के लिए जब कोई वाहन नहीं आया तो दोपहर बाद वो भी बंद कर दिए गए।

पांच बजते ही बजने लगीं थालियां और तालियां

जनता कफ्र्यू के चलते शिवपुरी शहर सहित अंचल भर में लोग पूरे दिन घर में रहे और जैसे ही शाम के 5 बजे, लोग अपने घर की छत, खिड़कियों व बरामदे में थाली-कटोरी व चम्मच लेकर निकल आए और फिर उन्होंने तालियां व थालियां बजाईं।

आमजन ने यह तालियां उन लोगों के लिए बजाईं, जिन्होंने जनता कफ्र्यू के दौरान अपनी ड्यूटी को पूरी ईमानदारी से निभाया, जिसमें पुलिस, स्वास्थ्य, नगरपालिका, बिजली कर्मचारियों सहित मीडियाकर्मी शामिल हैं।
यह बोले बुजुर्ग

हमारी उम्र 80 साल की हो गई, लेकिन इतना सफल बंद कभी नहीं देखा। यह बंद मानवता के लिए किया गया, क्योंकि एक दिन घर में रहने व प्रतिष्ठान बंद रखने से उन्होंने महामारी के वायरस से बचाव में अपना अहम सहयोग दिया।
लालाराम राठौर, मनियर शिवपुरी

अंचल में भी रहा पूरी तरह से बंद
करैरा. कोरोना वायरस से बचाव के लिए बीते 19 मार्च को देश के प्रधानमंत्री की अपील पर रविवार को जनता कफ्र्यू के दौरान करैरा नगर में भी आज पूरी तरह से बाजार बंद रहा। इस दौरान बाजार में लोग चाय-पुडिय़ा के लिए भी तरस गए। लेकिन इस बंद में हर जन ने अपना सहयोग दिया।

पिछोर. कस्बा पिछोर ने पीएम मोदी के आह्वान पर कोरोना से बचाव के दृष्टिगत जनता कफ्र्यू में पूरी तरह घर से न निकल कर जागरूकता और समझदारी का परिचय देते हुए अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। पिछोर के अति व्यस्ततम व्यवसायिक स्थान भी पूर्णत: वीरान नजर आए।


दिनारा. करैरा विकासखंड के दिनारा कस्बे में भी आज पूरे दिन बाजार बंद रख कर जहां दुकानदारों ने जनता कफ्र्यू को समर्थन दिया, वहीं आमजन भी घरों में रहे, लेकिन जैसे ही शाम के पांच बजे तो लोग थाली-चम्मच लेकर जमकर बजाए।

कोलारस. जिले के कोलारस नगर में भी जनता कफ्र्यू पूरी तरह से सफल रहा और पूरे दिन न तो बाजार खुला और न ही लोग घर से बाहर निकले। शिवपुरी शहर सहित जिले भर में जब थाली-चम्मच बजे तो कोलारस नगर में भी पांच बजे लोगों ने शंख व थाली बजाईं तथा फिर वे घरों में चले गए।


जिले के खनियांधाना, रन्नौद व लुकवासा में भी आज बाजार पूरी तरह से बंद रहा तथा क्षेत्र की नगरीय व ग्रामीण जनता अपने घरों में ही रही। दिन भर लोगों ने घर पर ही रहकर मोबाइल के अलावा अन्य कार्यो में अपना समय व्यतीत किया।

shatrughan gupta
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned