पशुपालकों के लिए खुशखबरी: जर्जर पशु चिकित्सालयों का होगा जीर्णोद्धार मिलेगी सुविधा

पशुपालन विभाग के प्रमुख सचिव ने सभी मण्डालायुक्त व पशुुपालन विभाग के निदेशक प्रशासन एवं विकास को पत्र लिखकर जानकारी मांगी है

By: Ashish Shukla

Updated: 09 Jan 2018, 11:08 PM IST

सिद्धार्थनगर. पशुपालकों के लिए अच्छी खबर है, अब उन्हें पशु चिकित्सालयों पर परेशानी का सामना नहीं करना पडे़गा। सरकार पशु जर्जर पशु चिकित्सालयों का जीर्णोद्धार कराने जा रही है। जिले वार जर्जर पशु चिकित्सालयों का ब्योरा मिलते ही सरकार द्वारा जानवरों क अस्पताल के जीर्णोद्धार के लिए धन मुहैया कराया जाएगा। जिससे कि पशुओं के अस्पतालों को भी बेहतर बनाया जा सके। जानवरों के लिए जिले के विभिन्न क्षेत्रों में बने पशु चिकित्सालयों की स्थिति ठीक नहीं होने के कारण चिकित्सालयों पर डॉक्टर व अन्य कर्मचारी वहां रूकते ही नहीं है।

 

कुछ भवन को इस कदर जर्जर है कि वहां पर डॉक्टर व कर्मचारी ड्यूटी ही नहीं बजाते हैं। जिसके चलते पशुपालकों के पशुओं को स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पाती है। इससे पशुपालकों को काफी परेशान होना पड़ता है। इंसान के साथ साथ पशुओं की सेहत को लेकर गम्भीर प्रदेश सरकार अब उनके लिए बने अस्पतालों को दुरूस्त बनाने जा रही है। सभी अस्पतालों पर जरूरत के आधार पर धन खर्च किया जाएगा। जहां पर जैसी जरूरत होगी उसी के आधार पर धन मुहैया कराया जाएगा। इसके लिए पशुपालन विभाग को जिले के सभी चिकित्सालयों के स्थिति की जानकारी निर्धारित फार्मेट पर देना होगा। जिससे कि प्रत्येक अस्पताल के बारे में सरकार सीधे जानकारी जुटा सके और उसी आधार पर मरम्मत आदि के लिए धन मुहैया कराया जा सके।

 

इस सम्बंध में पशुपालन विभाग के प्रमुख सचिव ने सभी मण्डालायुक्त व पशुुपालन विभाग के निदेशक प्रशासन एवं विकास को पत्र लिखकर जर्जर पशु चिकित्सालयों की जानकारी मांगी है जिससे कि उनका सुदृणीकरण कराया जा सके। जिससे कि गायों के देशी नस्लों को सरंक्षित करने व गोवंशीय पशुओं की रक्षा के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों को प्रभावी बनाया जा सके। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ.फणीस सिंह ने बताया कि पत्र के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।

 

INPUT BY- SURAJ CHAUHAN

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned