एक सीट पर दो सगे भाई अामने-सामने, एक को बीजेपी ने बनाया प्रत्याशी तो दूसरे ने कर दी बगावत

दो भाईयों समेत दस उम्मीदवार मैदान में

By: Sunil Yadav

Published: 12 Nov 2017, 07:19 PM IST

सिद्धार्थनगर. सियासत भी अजब चीज है। कब कौन किस का विरोधी बनकर चुनावी मौदान में दो-दो हाथ करने को आ जाए, कहा नहीं जा सकता। ऐसा ही कुछ नजारा, इस बार शहर की नगर पालिका में देखने को मिलने वाला है। चेयरमैन के लिए दो सगे भाई ने एक-दूसरे को मात देने के लिए नामांकन पत्र भरा है। दिलचस्प बात यह कि एक भाई को बीजोपी ज्वाइंन करने के बाद टिकट मिला है तो दूसरे भाई जो बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीत चुके है उन्होंने पार्टी से बगावत कर दी है।

 

नगर पालिका परिषद सिद्धार्थनगर में 29 नवम्बर को होने वाले चुनाव के लिए अध्यक्ष पद की लड़ाई काफी रोचक होने वाली है। दो भाई एक-दूसरे को टक्कर देने के लिए आमने-सामने हैं। भाजपा ने इसबार अपना उम्मीदवार श्याम बिहारी जायसवाल को बनाया है जिन्होंने अभी हाल ही में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। श्याम बिहारी के उम्मीदवार बनते ही उनके सगे भाई वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व पालिका अध्यक्ष घनश्याम जायसवाल ने भाजपा को अपने समर्थकों के साथ अलविदा कह दिया। वह टिकट के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे।

 

 

 

शहर के भाजपाइयों को उम्मीद थी कि घनश्याम ही बीजेपी से उम्मीदवार होंगे। जब टिकट की घोषणा की गई तो वह हाशिए पर नजर आए, बाजी उनके भाई के हाथ लगी। भाजपा के टिकट नगर पालिका अध्यक्ष रह चुके घनश्याम जायसवाल, महिला सीट होने पर पत्नी राधिका जायसवाल को भी भाजपा से चुनाव लड़ा कर अध्यक्ष बनवा चुके हैं। पूर्व में पति-पत्नी के अध्यक्ष रहने के बाद इस बार भी पार्टी में टिकट को लेकर उनकी ही दावेदारी मजबूत मानी जा रही थी। टिकट घोषणा के बाद जब सफलता हाथ नहीं लगी तो उन्होंने निर्दल उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भर कर चुनाव को रोचक बना दिया। यहां से इन दो भाइयों के अलावा दस अन्य उम्मीदवारों ने भी नामांकन पत्र दाखिल किया है।

 

Sunil Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned