सांसद जगदंबिका पाल का बड़ा बयान, बोले...

विकास की राह में नहीं आनी चाहिए भेदभाव की दीवार : सांसद

सिद्धार्थनगर. कलिपवस्तु महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत सदस्यों का सम्मेलन हुआ। सम्मेलन में सभी की जिम्मेदारियों पर चर्चा करने के साथ ही विकास में सभी के योगदान के बारे में भी बताया गया। इसके अलावा सम्पूर्ण स्वच्छता में सभी की भागीदारी सुनिश्चित की गई। कार्यक्रम के दौरान सांसद जगदंबिका पाल ने विकास के लिए सभी से आगे आने का आह्वान करते हुए कहा कि विकास में भेदभाव की भावना को कभी भी दीवार नहीं बनाना चाहिए। तभी गांवों का सम्पूर्ण विकास होगा और गांव की एक अलग छवि भी सभी के सामने आएगी।
उन्होंने इसके लिए मिलकर प्रयास करना होगा तथा सभी को साथ लेकर चलना होगा। जिससे कि प्रत्येक योजना का लाभ जरूरतमंदों को मिल सके।

 

 

गांव की राजनीति का चित्रण करते हुए सांसद ने कहा कि सभी को अपनी सोच बदलनी होगी। गांव की कमान मिलने के साथ ही सभी प्रकार के पक्षपात की भावना दूर हो जानी चाहिए, जिस तरह सांसद व विधायक द्वारा कार्य किया जाता है उसी तरह से सभी को प्रयास करने की जरूरत है। उन्होंने ग्राम प्रधानों द्वारा किए जा रहे बेहतर प्रयासों की सराहना की। पंचायती राज विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार मिश्र ने सभी के जिम्मेदारियों के बारे में बताया जिससे बेहतर कार्य को अंजाम दिया जा सके। जिला पंचायत राज अधिकारी अनिल सिंह ने योजनाओं व खर्च आदि के बारे में जानकारी दी। स्वच्छता समन्वयक अमित कुमार श्रीवास्तव व संजय त्रिपाठी द्वारा स्वच्छता के उपायों व स्वच्छता के लिए किए जा रहे कार्यों में सभी के अपेक्षित सहयोग आदि के बारे में भी जानकारी मुहैया कराई। जिससे कि अक्टूबर 2018 तक स्वच्छता अभियान को सफल बनाते हुए जिले को पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त घोषित कराया जा सके। इस दौरान ग्राम प्रधान संघ के श्याम नारायण मौर्या, पवन मिश्रा सर्वेश, विजय यादव, रमेश, कैलाश, घनश्याम, अशोक कुमार आदि ग्राम प्रधान मौजूद रहे।

 

 

नाटक से दिया बेटी बचाओ का संदेश
पंचायती राज विभाग द्वारा कपिलवस्तु महोत्सव में आयोजित कार्यक्रम का पूरा फोकस स्वच्छता एवं बेटी बचाओ पर रहा। स्वच्छता को लेकर ग्राम प्रधाना, क्षेत्र पंचायत सदस्य व जिला पंचायत सदस्यों को सीएलटीएस की जानकारी देने के साथ ही किए जा रहे प्रयासों व प्रयोगों के बारे में बताया गया, इसके साथ ही बैडइम्पार्ट नेचुरल सोसाइटी के सहयोग से नाटक का मंचन किया गया। कार्यक्रम में लखनऊ से आए कलाकार सत्येन्द्र पाठक, विश्वनाथ, रियाज अहमद ने अपने साथियों के साथ स्वच्छता पर आधारित कार्यक्रम प्रस्तुत कर सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया। नाटक के माध्यम से कलाकारों ने शौचालय के अभाव में गांव की सच्ची तस्वीर को सभी के सामने रखा। साथ ही सभी से अपनी सोच बदलने की अपील की। इसके लिए नाट्य हास्य की टीम द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का संदेश दिया गया। नाटक का मंचन कर कलाकारों ने यह भी बताया कि बेटियों को पढ़ाना क्यों आवश्यक है, और बेटियां किसलिए जरूरी है।

वाराणसी उत्तर प्रदेश
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned