Bird flu से निबटने को खुला नियंत्रण कक्ष

- पशुपालन विभाग ने शुरू की प्रवासी पक्षियों की निगरानी

By: Ajay Chaturvedi

Published: 08 Jan 2021, 02:30 PM IST

सीधी. Bird flu से निबटने को खुला नियंत्रण कक्ष। साथ ही पशुपालन विभाग ने शुरू कर दी है प्रवासी पक्षियों की निगरानी। इतना ही नहीं प्रवासी पक्षियों के नमूने एकत्र कर उसे राज्य रोग अनुसंधान प्रयोगशाला भेजा जा रहा है। इसके अलावा कुक्कुट पालकों, वन विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि जिले में पक्षियों और मुर्गियों की मृत्यु पर तत्काल कार्रवाई करें।

इस बीच जिले के समस्त नागरिकों से अपील की गई है कि यदि किसी के आस पास अचानक बड़ी संख्या में पक्षियों मुर्गियों की मृत्यु होती है तो उसकी सूचना तत्काल नियंत्रण कक्ष में तैनात जिला नोडल अधिकारी डॉ. गंगा प्रसाद शुक्ला प्रभारी सिविल सर्जन को उनके मोबाइल नं. 9589193201, 7999494289 पर उपलब्ध कराएं। नागरिक विकासखंडवार कंट्रोल रूम में भी सूचना दे सकते हैं।

उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं के अनुसार विकासखंड सीधी के लिए डॉ. रजनीश कुमार द्विवेदी से मोबाइल नं. 9755456099, डॉ. सुदीप कुमार सिंह से मोबाइल नं. 9893089769, डॉ आनंद कुमार द्विवेदी से मोबाइल नं. 9340105063, 8225026550 तथा डॉ. वीरेंद्र विक्रम सिंह से मोबाइल नं. 9981757668 पर संपर्क किया जा सकता है।

विकासखंड रामपुर नैकिन के लिए डॉ. श्रीकांत शुक्ला से मोबाइल नं. 9179636253, 6269468792, डॉ. सव्यसांची त्रिपाठी से मोबाइल नं. 9993664382 तथा डॉं. श्रवण कुमार कुर्मी से मोबाइल नं. 9752702677 पर संपर्क हो सकता है।

विकासखंड सिहावल के लिए डॉ. बालेन्द्र प्रसाद शुक्ला से मोबाइल नं. 9755277197, 8319038680, डॉ. शिवेंद्र सिंह चौहान से मोबाइल नं. 8827102211 और डॉ. विनीता सिंह से मोबाइल नं. 6261955537 पर संपर्क कर सकते हैं।

विकासखंड कुसमी के लिए डॉ. प्रशांत सिंह से मोबाइल नं. 8982051120, 9466116619 व डॉ. नीतू चिकवा से मोबाइल नं. 7974674102 पर संपर्क साधा जा सकता है।

इसी प्रकार विकासखंड मझौली के लिए डॉ. जानकी प्रसाद पांडेय से मोबाइल नं. 9755088617 और डॉ. अंबिका प्रसाद नामदेव से मोबाइल नं. 9755088617 पर संपर्क किया जा सकता है।

उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं ने कहा है कि मध्य प्रदेश शासन पशुपालन विभाग भोपाल द्वारा इंदौर जिले में एचएन बर्ड फ्लू रोग फैलने की जानकारी हुई है। पशुपालन विभाग सीधी द्वारा सतर्कता बरतते हुए जिले में स्थित जलाशयों एवं अभ्यारण्य आदि में आने वाले प्रवासी पक्षियों पर विशेष निगरानी रखते हुए प्रवासी पक्षियों के नमूने एकत्र कर पुष्टि के लिए राज्य रोग अनुसंधान प्रयोगशाला भोपाल भेजा जाएगा तथा कुक्कुट पालकों, वन विभाग प्रशासन पक्षियों अथवा मुर्गियों की मृत्यु की सूचना प्राप्त होते ही तत्काल कार्रवाई करेगा। उप संचालक ने कहा है कि बर्ड फ्लू में पक्षियों में अचानक सांस लेने की समस्या, छीकने, खांसी, नाक से तरल पदार्थ का श्राव, डायरिया, सिर एवं कलगी में सूजन आती है तथा बड़ी संख्या में पक्षियों, मुर्गियों की मृत्यु होने लगती है। उनका कहना है कि चिकन और अंडों आदि को अच्छी तरह से पकाकर सेवन करने पर मानव स्वास्थ्य को किसी प्रकार का खतरा नहीं है।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned