MP के इस जिले में उजागर हुआ PM आवास योजना में भ्रष्टाचार का बड़ा खेल

-उपखंड अधिकारी मझौली के पत्र के आधार पर दर्ज किया गया अपराध
-लिस्ट में नाम जोड़वाने और कटवाने के नाम पर करता था सौदा
-तीसरी और चौथी सूची में नाम जुड़वाने के लिए लोगो ने दे रखा है एडवांस में चेक
-नगर परिषद मझौली अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना का मामला

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 20 Jun 2020, 06:54 PM IST

सीधी/मझौली. प्रधानमंत्री आवास योजना में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार का मामला प्रकाश में आया है। आरोप है कि योजना के तहत लाभार्थियों को मिलने वाली सहायता राशि का बड़ा हिस्सा कमीशनखोरी की भेंट चढ़ रहा है। आरोपी कमीशनखोरी के नाम पर लाभार्थियों को धमका रहे हैं। जबरन पैसा वसूला जा रहा है। इससे संबंधित एक वीडियो वायरल होने के बाद विभाग हरकत में आया और वायरल वीडियो की हकीकत का पता लगाया। उसके बाद मामले में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमा उपखंड अधिकारी, मझौली की तहरीर पर दर्ज किया गया है।

थाना मझौली में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में आरोपी रोहणी प्रसाद गुप्ता (पिता सुदामा प्रसाद गुप्ता निवासी वार्ड क्रमांक 13 भैंसवाही नगर परिषद मझौली) पीएम आवास योजना की आहरित किस्त में से जबरन कमीशन की मांग करते दिख रहे हैं। आरोपी रोहिणी पर सूरज गुप्ता पिता सत्यप्रसाद गुप्ता, अशोक कुमार गुप्ता पिता मनबोध प्रसाद गुप्ता, कृष्णाकांत गुप्ता पिता सत्यप्रसाद गुप्ता, राम कैलाश गुप्ता पिता राम प्रसाद गुप्ता, कुसुमकली पति रामकैलाश गुप्ता (सभी निवासी वार्ड नंबर 13 भैसवाही) से कमीशन मांगने का आरोप है। ये सभी पीएम आवास योजना के लाभार्थी हैं। वायरल वीडियो में आरोपी, लाभार्थियों को धमकी भी दे रहा है कि अगर कमीशन की रकम नहीं दी तो अगली किस्त रोकवा देगा। ऐसे में पुलिस ने उपखंड अधिकारी, मझौली की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया। अब इस पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुट गई है। बता दें कि उपखंड अधिकारी मझौली के ने 10 जून को ही थाना प्रभारी के नाम पत्र भेजा था।

आरोपी रोहिणी प्रसाद गुप्त पर पीएम आवास योजना की लिस्ट में नाम जोड़वाने और कटवाने के नाम पर सौदा करने और तीसरी और चौथी सूची में नाम जुड़वाने के नाम पर भी लोगों से पैसे ऐठने का आरोप है। बताया तो यहां तक जा रहा है कि कुछ लोगो से वह एडवांस में चेक ले भी रखा है।

मझौली थाना

नायब तहसीलदार से कराई गई थी जांच
बताया गया कि उपखंड अधिकारी मझौली के द्वारा नायब तहसीलदार मझौली से वायरल वीडियो के संबंध में जांच कराई गई थी। उस दौरान इन पांचों लाभार्थियों (हितग्राहियों) ने अपना बयान दर्ज कराया। दर्ज बयान में उन्होंने बताया है कि आरोपी रोहिणी प्रसाद गुप्ता उनके घर जाकर प्रधानमंत्री आवास योजना से आहरित की गई किस्त में से कमीशन की मांग करता था और हितग्राहियों को धमकाता था कि अगर कमीशन नहीं दोगे तो अगली किस्त रुकवा दी जाएगी। इसी तरह का कथन उपरोक्त लोगों द्वारा उपखंड अधिकारी के न्यायालय में शपथ पत्र के रूप में भी दिया गया है।

इस कार्रवाई से जहां नगर क्षेत्र में सक्रिय बिचौलियों में दहशत का माहौल है, वहीं नगर क्षेत्र के आम लोगों में की गई कार्रवाई से खुशी देखी जा रही है। बताया जा रहा है कि आरोपी रोहिणी प्रसाद गुप्ता, शिक्षक के पद पर सिंगरौली जिले में कार्यरत हैं।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned