दिव्यांग बच्चों ने दिखाई अपनी प्रतिभा

सीधी विकासखंड में दिव्यांग बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता संपन्न

सीधी। विकास खंड सीधी अंतर्गत विकासखंड स्तरीय दिव्यांग बच्चों के लिए खेलकूद प्रतियोगिता एवं समर्थ प्रदर्शन का आयोजन सीडब्ल्यूएसएन छात्रावास मधुरी में आयोजित किया गया। जिसमें शालाओं में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8 तक के दिव्यांग बच्चों ने भाग लिया खेलकूद प्रतियोगिता में 100 मीटर दौड़, 50 मीटर दौड़, 200 मीटर की दौड़, गोला फेंक, भाला फेंक, चित्रकला, रंगोली, एकल गायन, समूह गायन आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। आयोजित प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले दिव्यांग प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया साथ ही उपस्थित समस्त बच्चों को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। कार्यक्रम के समापन अवसर पर जिला परियोजना समन्वयक डॉ.केएम द्विवेदी, सहायक परियोजना समन्वयक डॉ. अरुण कुमार सिंह, सहायक समन्वयक आईईडी रजनीश श्रीवास्तव, विकासखंड समन्वयक डीपी शुक्ला, सीमा सिंह बीजीसी, बीएसी सुरेश कोल सहित विकलांक छात्र-छात्राएं शामिल हुए।
प्राचार्य एवं शिक्षकों का एक दिवसीय उन्मुखीकरण संपन्न-
जिला शिक्षा अधिकारी सीधी ने बताया कि मिशन के अंतर्गत एक हजार चैयनित विद्यालयों के समस्त 25 प्राचार्यों एवं 50 प्रतिशत परिणाम वाले विषय शिक्षकों का एक दिवसीय उन्मुखीकरण सुरेश पांडेय ओएसडी लोकशिक्षण संचनालय द्वारा उत्कृष्ट विद्यालय सीधी में विगत द्विवस संपन्न हुआ जिले में मिशन 1 हजार अंतर्गत 25 विद्यालयों का चैयन किया गया है जिसका उत्कृष्ट विद्यालय के तर्ज पर विकसित किया जाएगा चैयनित 25 विद्यालयों मे से 15 विद्यालयों के तिमाही परीक्षा के परिणाम 50 प्रतिशत से कम होने पर मिशन एक हजार के अंतर्गत राज्य प्रभारी सुरेश पांडेय को सीधी भेज कर 15 विद्यालयों में शाउमावि पोखरा, ताला, तरका, सपही, टिकरी, सेमरिया, कन्या सीधी, पथरौला, कन्या मझौली, बहरी अमिलिया, खिरखोरी, खाम्ह, गिजवार, माडल स्कूल सिहावल के सभी विषय शिक्षकों एवं 25 प्राचार्यों का उन्मुखीकरण किया गया।
उन्मुखीकरण का प्रथम बैच 11 बजे से 2 बजे तक जिसमें 62 शिक्षक द्वितीय बैच में, 2 बजे से 5 बजे तक 54 शिक्षक उपस्थित रहें। उन्मुखीकरण में निर्देश दिया गया है कि जिन विद्यालयों का परीक्षा परिणाम संतोषजनक नहीं होगा वह मिशन 1000 की स्कूल में अगले वर्ष नहीं होंगें। उन्मुखीकरण में सभी विषय शिक्षक एवं प्राचार्य द्वारा कक्षा 10वीं के प्रत्येक छात्र-छात्राओं के होमवर्क उसके तिमाही परीक्षा के प्रश्नों का विश्लेषण कर पूरी कार्य योजना तैयार की जाएगी। उन्मुखीकरण में जिला उत्कृष्ट प्राचार्य शंभूनाथ त्रिपाठी, एडीपीसी अशोक तिवारी उपस्थित रहें। उपस्थित शिक्षकों को एपीसी डॉ. सुजीत मिश्रा ने अवगत कराया कि मिशन 1000 के 15 स्कूल का परीक्षा परिणाम संतोषजनक नहीं पाया गया। उनकी क्लास कलेक्टर के समक्ष ली जाएगी और अच्छे परिणाम वाले प्राचार्यों को उन स्कूलों का केयर टेकर नियुक्त किया जाएगा।

Manoj Pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned