आ रहे बीमारी का उपचार कराने, कहीं बीमारी लेकर न चले जाएं

आ रहे बीमारी का उपचार कराने, कहीं बीमारी लेकर न चले जाएं
sidhi news

Manoj Kumar Pandey | Updated: 04 Jul 2019, 09:02:16 PM (IST) Sidhi, Sidhi, Madhya Pradesh, India

जिला अस्पताल परिषर गंदगी से नहीं हो पा रहा मुक्त, बारिश के बाद सड़ांध मार रहा कचरा, दुर्गंध से परेशान मरीज व परिजन, संक्रामक बीमारियां फैलने का बना खतरा

सीधी। जिला अस्पताल में लोग बीमारी का ईलाज कराने जाते हैं, लेकिन इन दिनों जिला अस्पताल की व्यवस्था ऐसी है कि यदि स्वस्थ व्यक्ति को यहां एक दो दिन रख दिया जाए तो वह बीमार पड़ सकता है। इसका एकमात्र कारण जिला अस्पताल में व्याप्त गंदगी है। एक सप्ताह पूर्व जिला अस्पताल के अस्थाई सफाईकर्मियों के अनिश्चितकालीन काम बंद हड़ताल से बेपटरी हुई जिला अस्पताल की सफाई व्यवस्था उनके काम पर वापस लौटने के बाद भी पटरी पर नहीं आ रही है। एक तो अस्पताल का मेडिकल वार्ड इन दिनों मौषमी बीमारियों के मरीजों से भरा पड़ा है, जिससे मेडिकल वार्ड के आस पास, बरामदे, शौंचालय आदि की सफाई रखना सफाईकर्मियों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है, वार्ड बरामदे व शौंचालयों की सफाई कर सफाईकर्मी वापस लौटते हैं कि फिर गंदगी पट जाती है, उल्टी दस्त के मरीजों की गंदगी से संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है। लेकिन अस्पताल प्रबंधन चाह कर भी अस्पताल का साफ स्वच्छ नहीं रख पा रहा है, यहां तक की कलेक्टर भी इस मामले को लेकर कई बार सिविल सर्जन को फटकार लगा चुके हैं।
परिषर में पनप रही मौत-
जिला अस्पताल परिषर में पटी गंदगी के बीच मौत पनप रही है, लेकिन इस पर किसी जिम्मेदार की निगाह नहीं पड़ रही है। दरअसल जिला अस्पताल भवन व ब्लड बैंक के बीच खाली जगह जो कभी पीसीसी मार्ग हुआ करता था, वर्तमान समय में कचरा डंप स्थल बना हुआ है, यह जिला अस्पताल के वह कचरे भी फेंके जा रहे हैं जो नियमानुसार अस्पताल प्रबंधन द्वारा नहीं फेंके जाने चाहिए। इस कचरे के ढेर पर बारीकी से निगाह दौड़ाई जाए तो इसमे बेस्ट वाटल, यूज की हुई डिस्पोजवेल सिरेंज के साथ ही अन्य सामग्री भी रहती है, जो यहां नहीं फेंकी जानी चाहिए। इसके अलावा मरीजों व भर्ती मरीजों के परिजनों द्वारा भी बचा हुआ खाना सहित अन्य कचरा फेंके जाने से यहां कचरे का ढेर लग गया है। कई दिनों से लगातार कचरे का उठाव न होने व सफाई न होने से बारिश के बाद यह कचरा सड़ांध मारने लगा है, इसकी बदबू अस्पताल तक पहुंच रही है, वहीं इस गंदगी में जानलेवा मच्छर तो पनप ही रहे हैं, साथ ही मक्खियां भिनकते हुए अस्पताल व ब्लड बैंक के अंदर तक बीमारी पहुंचा रही हैं।
किचेनशेड व शुद्धपेयज भी यहीं-
अस्पताल परिषर में जहां गंदगी का ढेर लगा हुआ है उसके ठीग बगल में यानि ब्लड बैंक के पीछे जिला अस्पताल का किचेनशेड भी है, जहां मरीजों व उनके परिजनों के लिए खाना बनता है। इसके साथ ही यहीं पर मरीजों व परिजनों के लिए शुद्ध पेयजल के लिए वाटरकूलर भी लगाया गया है, जहां मरीज व उनके परिजन नाक दबाकर पीने के लिए पानी लेने जाते हैं।
नपा की है जिम्मेदारी-
अस्पताल परिषर की सफाई की जिम्मेदारी नगर पालिका की है। सफाई के लिए नपा को कई बार कहा चुका है, लेकिन सफाई नहीं की जा रही है।
डॉ.एसबी खरे
सिविल सर्जन, जिला अस्पताल सीधी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned