लॉकडाउन नवीन आदेश: शर्तों के साथ सुबह 10 से शाम 5 बजे तक खुलेगा बाजार

जिला प्रशासन के निर्देश पर नपा ने बाजार क्षेत्र की दुकानों में नंबरिंग, अल्टरनेट व्यवस्था के साथ दुकानें खोलने की दी गई अनुमति, यातायात व्यवस्था भी की गई सशर्त बहाल, बस व ऑटो संचालन की अनुमति, लेकिन बिठाना होगा निर्धारित यात्री

By: Manoj Pandey

Published: 05 May 2020, 09:26 PM IST

सीधी। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव हेतु घोषित किया गया लॉक डाउन-२ की समय सीमा ३ मई को समाप्त हो गई। 4 मई से 17 मई तक के लिए पुन: केंद्र सरकार द्वारा लॉक डाउन का तीसरा चरण घोषित किया गया है। लेकिन इस तीसरे चरण में लॉकडाउन को लेकर रेड जोन, ऑरेंज जोन तथा ग्रीन जोन के लिए अलग-अलग नियम बनाए गए हैं। ग्रीन जोन में लॉक डाउन को लेकर सर्वाधिक छूटें दी गई हैं। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी रवींद्र कुमार चौधरी द्वारा उक्त परिस्थितियों के निवारणार्थ एवं उपचारार्थ धारा 144 दंड प्रक्रिया संहिता के प्रावधानांतर्गत प्रदत्त अधिकारिता का प्रयोग करते हुए निषेधात्मकए लॉकडाउन आदेश प्रसारित किया गया है। आदेश की शर्तों का उल्लंघन करने की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध आईपीसी की धारा 188 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से 17 मई 2020 तक प्रभावशील रहेगा।
--------
ये गतिविधियां जो प्रतिबंधित की गई हैं-
*जिले की समस्त स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, ट्यूशन क्लास।
*भारत शासन के गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देश अनुसार दी गई अनुमति को छोड़कर समस्त औद्योगिक एवं व्यवसायिक गतिविधियां पूर्णत: बंद रहेंगी।
*दिशा निर्देशों के तहत विशेष रूप से अनुमति आतिथ्य सेवाओं के अलावा अन्य आतिथ्य सेवाएं।
*सभी सिनेमाहॉल, शापिंग कांपलेक्स, व्यायामशाला, स्पोट्र्स कांपलेक्स, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार और ऑडिटोरियम, असेम्बली हॉल और इसी तरह के स्थान।
*सभी प्रकार के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक, खेल/मनोरंजन, अकादमिक, धार्मिक समारोह अन्य एकत्रीकरण।
*सैलून, स्पा, ब्यूटी पार्लर, नाई की दुकान पूर्णत: बंद रहेंगी।
*सभी धार्मिक स्थलों, पूजा स्थलों पर, धार्मिक मंडली, एकत्रीकरण पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेंगी।
--------
सामाजिक दूरी बनाये रखने की शर्त पर आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति हेतु निम्नानुसार गतिविधियां की अनुमति रहेगी-
*शासकीय उचित मूल्य की दुकानें लॉकडाउन के पूर्व शासन द्वारा जो समय निर्धारित था, के अनुसार खुली रहेंगी।
*नगर पालिका एवं नगर पंचायत सीमा क्षेत्रांतर्गत स्थित दुकानों को संबंधित निकाय द्वारा क्रमांकित किया जायेगा, जिसके आधार पर सम क्रमांक की दुकानें सम दिनांक एवं विषम क्रमांक की दुकानें विषम दिनांक को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खुलेंगी, दुकानें सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक खुली रहेंगी।
*कोई भी दुकान जो वार्ड या मोहल्ला में एकल दुकान है, वो निर्धारित समय के लिये प्रतिदिन खुली रहेंगी। एकल दुकान का आाशय वहां अगल-बगल कोई भी दुकान न हो।
*मंडी व्यापारी सौदा पत्रक अनुसार संबंधित व्यक्ति को सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक भुगतान कर सकंेंगें।
*सब्जी एवं फल की दुकाने यथावत एवं पूर्व निर्देशों के अनुरूप खुलेंगी।
*शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र की समस्त दुकानों में 50 प्रतिशत कर्मचारियों की क्षमता से अधिक कर्मचारियों से कार्य लिया जाना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।
*कार्यरत कर्मचारियों को मास्क लगाना एवं 2 गज की सामाजिक दूरी बनाये रखना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने की स्थिति में विक्रेता को न्यूनतम एक हजार रूपये या अधिकतम 5 हजार रूपये अर्थदंड से दंडित किया जाएगा।
*खाद्य पदार्थ (फुल्की/चाट व अन्य) हाथ ठेले के माध्यम फेरी लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बिक्री कर सकेंगे। बिक्री का समय सुबह 10 बजे से सायं 5 बजे तक रहेगा।
---------
निर्माण कार्य की अनुमति-
*मनरेगा कार्यों को सोशल डिस्टेंसिंग के अनुपालन और चेहरे पर मास्क के सख्त कार्यान्वयन के साथ अनुमति दी गई है।
*सिंचाई एवं जल संरक्षण कार्यों को मनरेगा के तहत प्राथमिकता दी जाएगी।
*सिंचाई और जल संरक्षण क्षेत्रों में अन्य केंद्रीय और राज्य क्षेत्र की योजनाओं को भी मनरेगा कार्यों के साथ लागू करने की अनुमति दी गई है।
*श्रमिकों को रोजगार देने के उद्वेश्य से शासकीय निर्माण कार्य के साथ निजी निर्माण भी यथास्थिति अपेक्षित अनुमति के साथ की जा सकेगी।
-------
इन शर्तों के साथ यात्री वाहन व ऑटो संचालन की अनुमति-
*चिकित्सा और पशु चिकित्सा देखभाल सहित आपातकालीन सेवाओं के लिए निजी वाहन के इस्तेमाल के मामलों में चार पहिया वाहन हेतु वाहन चालक के अलावा दो यात्री को पीछे के सीट पर बैठने की अनुमति रहेगी एवं दो पहिया वाहन के मामले में केवल वाहन के चालक की अनुमति रहेगी।
*टैक्सी (ऑटो रिक्सा व सायकल रिक्सा सहित) और टैक्सी एग्रीगेटर्स की सेवाएं . जिले के भीतर बसों का संचालन एक सीट पर केवल एक व्यक्ति साथ ही बस की क्षमता का 50 प्रतिशत को बैठने की शर्त पर किया जा सकेगा तथा ऑटो रिक्सा का संचालन चालक के अतिरिक्त केवल एक व्यक्ति को बैठाकर किया जा सकेगा।
------
*अंतिम संस्कार में अधिकतम 20 व्यक्ति शामिल हो पाएंगे।
*विवाह संस्कार में अधिकतम 50 व्यक्ति शामिल हो पाएंगे।
प्रत्येक स्थिति में सोशल डिस्टेसिंग बनाए रखना, मास्क लगना तथा सेनेटाइजर अथवा साबुन से हाथ की सफ ाई करना अनिवार्य होगा।
०००००००००००००००००००

Manoj Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned