अस्पताल परिसर की सफाई को लेकर बेपरवाह जिला अस्पताल प्रबंधन

प्राईवेट वार्ड के पीछे गंदगी का अंबार, मरीजों में संक्रमण का खतरा, अस्पताल भवन के पीछे भी लगा है गंदगी का अंबार

By: Manoj Pandey

Published: 19 Mar 2020, 09:30 PM IST

सीधी। कोरोना वायरस से संक्रमण के बचाव को लेकर जहां एक ओर स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिए जाने की बात कही जा रही है, वहीं जिला अस्पताल परिसर की स्वच्छता को लेकर जिम्मेदार अधिकारी पूरी तरह से बेपरवाह बने हुए हैं। जिला अस्पताल के सामने का परिसर तो साफ व स्वच्छ नजर आता है, लेकिन भवन के अगल-बगल व पीछे का नजारा आश्चर्यचकित करने वाला है। यहां की नालियां कचरे व गंदगी से बजबजा रहीं हैं। नालियों से निकलती सड़ांध से आस-पास वातावरण में फैली रहती है। इस गंदगी से मरीजों व उनके परिजनों को संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है, इसके बावजूद जिला अस्पताल प्रबंधन सफाई को लेकर बेपरवाह बना हुआ है।
उल्लेखनीय है कि जिला अस्पताल की सफाई को लेकर हमेशा ही सवाल खड़े होते रहे हैं। वर्तमान कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी के साथ ही पूर्व कलेक्टर अभिषेक सिंह द्वारा अस्पताल की सफाई को लेकर कई बार सिविल सर्जन को फटकार लगाई जा चुकी है। पूर्व कलेक्टर अभिषेक सिंह द्वारा तो कई बार निर्देश दिए जाने के बाद भी सिविल सर्जन ने अस्पताल के बगल के नालियों की सफाई नहीं करवाई थी तो वह स्वयं फावड़ा उठा लिए थे और सफाई कार्य में जुट गए थे, इसके बाद नपा के सफाई कर्मियों ने पहुंचकर नालियों की सफाई की थी। इसके बाद भी अस्पताल परिसर में गंदगी का आलम बना हुआ है, खासकर ऐसे समय में जब ेदेश व प्रदेश में कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बना हुआ है, इससे बचाव के लिए सफाई व्यवस्था पर विशेष जोर दिए जाने की बात की जा रही है।
प्राइवेट वार्ड के पीछे बजबजा रही नाली-
जिला अस्पताल परिसर में ही ब्लड बैंक के सामने प्राइवेट वार्ड बनाए गए हैं। प्राइवेट वार्ड के ठीक पीछे स्थित नाली पूरी तरह से कचरे से पटी हुई है, नाली की हालत देखकर लगता है कि यहां की सफाई वर्षों से नहीं हुई है। कचरे बजबजाती नाली से निकलने वाली सड़ांध से वहां खड़े होना मुश्किल रहता है। ऐसे मेें प्राइवेट वार्ड में भर्ती होने वाले मरीजों के साथ ही ब्लड बैंक में भी संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।
पीछे का नजारा चौंकाने वाला-
जिला अस्पताल भवन के सामने का परिसर तो चकाचक नजर आ रहा है। लेकिन भवन के पीछे यानि कुष्ठ एवं क्षय रोग विभाग तथा अस्पताल भवन के बीच खाली पड़ी जगह पूरी तरह से कचरे से पटी हुई है, ये वह स्थान जो मेटेरनिटी वार्ड तथा बर्न वार्ड से लगा हुआ है, इन वार्डों की खिड़कियां भी इस स्थल की ओर खुलती है, इस स्थल की वर्षों से सफाई तो नहीं करवाई गई है लेकिन कचरा लगातार फेंका जा रहा है, जिससे यह खाली स्थान पूरी तरह से कचरे से पटा हुआ है, लेकिन जिला अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारियों को यह गंदगी नजर नहीं आ रही है।

Manoj Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned