छ: वर्ष बाद भी नवीन बस स्टैंड में नहीं बन पाई पेयजल व यात्रियों के लिए छाया की व्यवस्था

तपती दोपहरी में पानी की तलाश में भटकते हैं यात्री, महज एक हैंडपंप की है व्यवस्था, वो भी रहता है अक्सर खराब, नल में एक टोटी तक नहीं लगवा पाए जिम्मेदार, दिन भर बहता रहता है पानी, गंदगी के बीच पानी के यात्री जाते हैं पीने का पानी, नाक दबाकर भरते हैं बोतल में पानी

By: Manoj Pandey

Updated: 10 Apr 2019, 09:30 PM IST

सीधी। सीधी शहर के जमोड़ी में राज्य परिवहन के डिपो में बनाया गया नवीन बस स्टैंड बदहाल व्यवस्था से गुजर रहा है। करीब छ: वर्ष पूर्व से शुरू किए गए इस नवीन अस्थाई बस स्टैंड में आज तक बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराई जा सकी हैं। गर्मी की इस तपती धूप में यात्री छांव व पेयजल के लिए भटकते नजर आ रहे हैं। नवीन बस स्टैंड की स्थिति यह है कि बारिश के मौसम में जहां पूरा परिषर कीचड़ से सन जाता है, और लोग बारिश से बचने के लिए यहां वहां छांव के लिए भागते फिरते हैं। वहीं गर्मी के मौषम में तपती धूप से बचने के लिए लोगों को छांव की तलाश में भटकना पड़ता है। सुविधाओं की बात करें तो यहां अब तक केवल एक सुलभ कांपलेक्स संचालित हो पाया है। स्मार्ट सिटी के बजट में यहां करीब छ: करोड़ रूपए की लागत से यात्री प्रतीक्षालय, पेवर ब्लाक, पेयजल सहित अन्य व्यवस्थाओं सुलभ करने की बात कही गई थी, लेकिन अभी तक यहां एक धेले का काम नहीं हो पाया है।
बताते चलें कि शहर के बीचो बीच स्थिति सोनांचल बस स्टैंड में बढ़ते वाहनों के दबाव से मुक्ति के लिए करीब छ: वर्ष पूर्व जिला प्रशासन द्वारा शहर के जमोड़ी स्थिति राज्य परिवहन निगम के डिपो में अस्थाई नवीन बस स्टैंड संचालित किया गया था। उस समय वाहन संचालक वहां व्यवस्थाओं की मांग करते हुए जाने से इंकार कर दिया था, लेकिन तत्कालीन कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा दबाव बनाकर वाहन संचालकों को नवीन बस स्टैंड से वाहनों के संचालन के लिए राजी कर लिया गया, साथ ही शीघ्र की बस स्टैंड में बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराए जाने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन बस स्टैंड को शुरू हुए छ: वर्ष बीतने के बाद भी यहां बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था नहीं हो पाई है।
पेयजल की किल्लत-
पेयजल की व्यवस्था के नाम पर यहां केवल एक हैंडपंप व एक नल जल योजना की टोटी लगी हुई है। हैंडपंप की हालत यह है कि वह अक्सर खराब रहता है, वहीं नल जल योजना के तहत लगी पाइप लाइन में एक टोंटी तक नहीं लगी है, जिससे दिन भर इसमें पानी बहता रहता है, जिसके चलते यह परिषर कीचड़ से पूरी तरह सना रहता है, और दुर्गंध व्याप्त रहती है। पीने के लिए पानी लेने जाने वाले यात्री नाक दबाकर पानी भरते हैं, कई लोग तो पानी पीने की हिम्मत नहीं कर पाते। लोगों ने बताया कि यह भी कभी कभार बंद हो जाता है। ऐसी स्थिति में खरीदकर ही पानी पीना पड़ता है।
छांव की भी नहीं है व्यवस्था-
बस स्टैंड में मुख्य रूप से यात्रियों के लिए छांव व पेयजल की व्यव्स्था होनी चाहिए, लेकिन जमोड़ी स्थित बस स्टैंड में इन दोनो ही सुविधाओं का टोंटा है। यहां छांव की व्यवस्था के नाम पर चार कुर्सियों वाला विधायक मद का प्रतीक्षालय है, इसके अलावा ऐसे भवन तक नहीं हैं, जहां लोग धूप से बच सकें।
यात्रियों ने सुनाया दर्द-
..........किसी भी बस स्टैंड में कम से कम बुनियादी सुविधाएं होनी चाहिए, सीधी बस स्टैंड में तो न छांव की व्यवस्था है, और न ही शुद्ध पेयजल की। ऐसे में हम यात्रियों को पानी के लिए भटकना पड़ता है।
कुशल प्रसाद वर्मा, सरदा
..........बस स्टैंडों में तो शीतल पेयजल की व्यवस्था होना चाहिए, लेकिन यहां गंदगी के बीच लगी नल जल योजना के नल जिसमें टोंटी तक नहीं लगी है, गरम पानी निकलता है, गरीबों को इस तपती गरमी में यही पानी पीना पड़ रहा है।
बृजेश सिंह गोंड़, बैढऩ
...........बस स्टैंड में जो हैंडपंप है, उसमें पानी निकालने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है, कीचड़ के बीच नल लगा है, ऐसे में खरीदकर ही पानी पी रहे हैं, बस स्टैंड में ऐसी व्यवस्था नहीं होनी चाहिए।
जीवेंद्र रावत, अमिलिया
............चुनाव के समय तो नेता बड़ी बड़ी बाते करते हैं, लेकिन काम कुछ नहीं होता, बस स्टैंड जैसे सार्वजनिक जगहों में यात्रियों के लिए व्यवस्थाएं न होना नेताओं के लिए शर्म की बात है। लेकिन फिर भी वह मंच पर बड़ी बड़ी डींगे मारते हैं।
विनय रावत, अमिलिया
........जब से यह बस स्टैंड संचालित हुआ है, तब से यहां की बदहाल व्यवस्था देख रहा हूं। यहां अक्सर कलेक्टर व नगर पालिका के अधिकारी आते हैं, भ्रमण करते हैं, यहां वहां व्यवस्थाएं बनाने की बात करते हैं, लेकिन हो कुछ नहीं रहा है। यहां से अन्य जिलों के लोग भी गुजरते हैं, बस स्टैंड की बदहाल हालत से सीधी जिले की भी इज्जत खराब हो रही है।
सूर्य प्रताप सिंह चौहान, जमोड़ी

Manoj Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned