अमिलिया में बैंक प्रबंधन द्वारा उड़ाया जा रहा सोशल डिस्टेंसिंग का खुला माखौल

लापरवाही पड़ सकती है भारी

By: Manoj Pandey

Published: 23 Apr 2020, 10:16 PM IST

सीधी/अमिलिया। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव हेतु घोषित किए गए लॉकडाउन में बैंकों को निर्धारित मापदंड के तहत खोलने की छूट दी गई है, इसमें मुख्य रूप से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। लेकिन जनपद पंचायत सिहावल अंतर्गत अमिलिया में स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और मध्यांचल बैंक नौढिय़ा की शाखाओं में सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम धज्जियां उड़ रही हैं। यहां बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं की भीड़ जुट रही है, प्रतिदिन बैंकों में उपभोक्ताओं की काफ ी भीड़ रहती है किंतु बैंक प्रबंधक द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कराया जा रहा। ऐसे में सवालिया निशान उठते हैं कि कोरोना से मुक्ति कैसे मिलेगी, इस लापरवाही का बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। जब कुछ उपभोक्ताओं से सवाल किए गए कि आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन क्यों नहीं कर रहे हैं तो उपभोक्ताओं के द्वारा बताया गया कि हम लोग आते हैं लाइन में खड़े होते हैं किंतु बैंक में काफ ी लापरवाही पूर्वक काम किया जाता है, जो लाइन में लगता है उसका कार्य नहीं किया जाता है यदि कोई सामने आता है और कागज दे दिया जाता है तो उसका काम जल्दी किया जाता है। कुछ उपभोक्ताओं के द्वारा बताया गया कि हमारे खाते में पैसे हैं, खाता बंद है किंतु बैंक प्रबंधक द्वारा हमारे खाते को चालू नहीं किया जा रहा है। कहा जाता है कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद ही खाते को चालू किया जाएगा, ऐसे में हम गरीब अपने खाते में पैसे रखकर अपना जीवन यापन कैसे करेंगे। क्षेत्रीय उपभोक्ताओं ने इस संबंध में जिम्मेदार अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराया है।

Manoj Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned