समर्थन मूल्य: छह दिन से नहीं हो पा रही गेहूं खरीदी, आखिर किस वजह से बैरंग लौट रहे किसान

सीधी जिलेे में बारदाने का अभाव बना हुआ है। किसान गेहूं बेचने के लिए केन्द्र पहुंचते हैं, लेकिन लौटा दिया जाता है।

By: Sonelal kushwaha

Published: 24 May 2018, 02:50 AM IST

सीधी. गेहूं की अच्छी पैदावार बीच किसान समर्थन मूल्य पर उपज बेचकर परेशान हैं। पहले तो उन्हें फसल बेचने के लिए उपार्जन केन्द्र के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। काफी मशक्कत के बाद फसल बिकी तो भुगतान के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता है। इसके अलावा जिले में गेहूं खरीदी के लिए बनाए गए 34 केंद्रों में व्याप्त अव्यवस्थाएं भी किसानों को परेशान करती हैं। बीते एक सप्ताह से बारदाने के अभाव में खरीदी नहीं हो पा रही। बारदाना न होने की बात कहकर वहां तैरान अधिकारी किसानों को बैरंग लौटा दे रहे हंै। जबकि, प्रशासन को यह जिम्मेदारी पहले ही कर लेेनी थी। खरीदी गई उपज के रख-रखाव को लेकर लापरवाही बरती जा रही है।

खरीदी केंद्रों के समिति प्रबंधक बारदाने उपलब्ध न होने की समस्याएं जिला सहकारी केंद्रीय बैंक को दे रहे हैं। सहकारी बैंक के सीइओ ने नागरिक आपूर्ति निगम की जिम्मेदारी बताकर मामले से पल्ला झाड़ लिया। जबकि, नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारी जल्द उपब्धत कराने की बात कह रहे हैं। किसान किसी तरह व्यवस्था बनाकर एक बार गेहूं लेकर खरीदी केंद्र पहुंच पाता है, लेकिन वहां से लौटा देने पर दोबारा पहुंचना उसके लिए मुश्किल हो जाता है। उसे दोबारा भाड़ा देना पड़ता है।

एक सप्ताह से नहीं है बारदाना
बताया गया कि उपार्जन केंद्र चुरहट, बड़ा टीकठ, बडख़रा, सिहावल विकासखंड अंतर्गत आधा दर्जन खरीदी केंद्रों में बीते एक सप्ताह से बारदाने की किल्लत मची हुई है। समिति प्रबंधकों ने बारदाना उपलब्ध कराने की मांग की थी, किंतु जिला मुख्यालय में भी बारदाना न होने के कारण उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। इस कारण किसान खरीदी केंद्र का चक्कर काटने को मजबूर हैं। पुराने बचे बारदाने के दम पर अभी तक खरीदी की गई किंतु विगत एक सप्ताह से खरीदी बंद कर दी गई है।

23 करोड़ का भुगतान भी अटका
जिले के खरीदी केंद्रों में उपज बेचने वाल किेसानों को भुगतान के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है। जिले में अब तक 43 करोड़ रुपए की गेहूं खरीदी जा चुकी है, किंतु शासन ने भुगतान के लिए महज 20 करोड़ ही जारी किए हैं। 11 करोड़ रुपए पहले जारी किए गए थे। जबकि, 9 करोड़ सोमवार को मिले हैं। यह राशि किसानों के खाते में भेजी जा रही है, किंतु 23 करोड़ का भुगतान अटका हुआ है। किसान उपज बेंचकर भी जरूरी काम नहीं कर पा रहे।

खरीदी केंद्रों में बारदाने की समस्या हो रही है, जिसकी शिकायत लगातार प्राप्त हो रही है। नागरिक आपूर्ति निगम को भी सूचित कर दिया गया है किंतु अभी तक बारदाना उपलब्ध नहीं कराया गया है।
ज्ञानेंद्र पांडेय, सीईओ, जिला सहकारी केंद्रीय बैंक सीधी

बारदाने की समस्या थी, किंतु आज बुधवार को दो सौ गठान बारदाना प्राप्त हो चुका है। इसे खरीदी केंद्रों में भेजा जा रहा है। गुरुवार को बारदाना खरीदी केंद्र तक पहुंच जाएगा। अब शिकायत नहीं आएगी।
एसके द्विवेदी, प्रबंधक, नागरिक आपूर्ति निगम सीधी

Show More
Sonelal kushwaha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned