डीईओ आफिस मे नहीं थम रहा संलग्रीकरण का खेल

डीईओ आफिस मे नहीं थम रहा संलग्रीकरण का खेल
आधा दर्जन शिक्षको को कार्यालयीन कार्य मे कर दिया गया अटैच

Om Prakash Pathak | Updated: 11 Sep 2019, 07:12:45 PM (IST) Sidhi, Sidhi, Madhya Pradesh, India

डीईओ आफिस मे नहीं थम रहा संलग्रीकरण का खेल, आधा दर्जन शिक्षको को कार्यालयीन कार्य मे कर दिया गया अटैच, दक्षता संवर्धन कार्यक्रम मे भी शिक्षको को कार्यालय से नहीं किया गया मुक्त

सीधी। शासन के सख्त निर्देश के बाद भी सीधी जिले में करीब आधा सैकड़ा से अधिक शिक्षक गैर शिक्षकीय कार्य में संलग्र किए गए हैं। शिक्षकों के गैर शिक्षकीय कार्य में संलग्र रहने से विद्यालयों में बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद रिक्त पड़े हुए हैं, जिससे विद्यालयों में पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है। लोक शिक्षण संचालनालय मप्र भोपाल द्वारा प्रदेश के समस्त जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी कर निर्देशित किया गया है कि गैर शिक्षण कार्य में संलग्र शिक्षकों को मूल संस्था में करने संबंधी आवश्यक कार्रवाई की जाए, लेकिन लोक शिक्षण संचालनालय के इस आदेश को सीधी जिले में तबज्जो नहीं दी जा रही है। लिहाजा जिले के बड़ी संख्या में शिक्षक गैर शिक्षकीय कार्य में संलग्र पड़े हुए हैं। यहां तक कि खुद जिला शिक्षा अधिकारी अपने कार्यालय मे ही आधा दर्जन शिक्षको को अटैच कर लिया गया है।
क्या है आदेश-
लोक शिक्षण संचालनालय मप्र भोपाल द्वारा गत 21 जून को प्रदेश के समस्त जिला शिक्षा अधिकारियों को गैर शिक्षकीय कार्य में संलग्र शिक्षकों को मूल संस्था में पदस्थ करने संबंधी आदेश जारी किए गए हैं। जारी आदेश में उल्लेखित किया गया है कि 24 जून 2019 के पूर्व गैर शिक्षकीय कार्य में नियोजित समस्त शिक्षकों को उनकी मूल पाठशाला, विद्यालय में उपस्थिति हेतु निर्देशित करें, यदि शिक्षक अपने मूल विद्यालय में पठन-पाठन हेतु उपलब्ध नहीं होते है तो ऐसी स्थिति में उनके वेतन भुगतान आदि की कार्रवाई भी रोकी जा सकती है। पत्र में उल्लेखित किया गया है कि इस तथ्य को ध्यान में रखेें की निर्वाचन के नाम पर अथवा अन्य प्रयोजनों से शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्य में सबद्ध रखे जाने पर आपके विरूद्ध भी कार्रवाई हो सकती है। बावजूद इसके जिला शिक्षा अधिकारी सीधी द्वारा जिले में गैर शिक्षकीय कार्य में संलग्र शिक्षकों को मूल संस्था में पदस्थ करने संबंधी आवश्यक कार्रवाई नहीं की जा रही है।
मलाईदार पदों से नहीं छूट रहा मोह-
जिले के कई ऐसे शिक्षक हैं जो विभिन्न कार्यालयों में मलाईदार सीटों पर संलग्र हैं, अपनी राजनैतिक पहुंच के कारण इन पर कार्रवाई नहीं हो पा रही है, जब कभी इन पर कार्रवाई संबंधी पत्र आता है तो विभाग प्रमुखों के पास इनके राजनैतिक आकाओं के फोन पहुंच जाते हैं, लिहाजा इन पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो पाती और वे नियम विरूद्ध तरीके से वर्षों से गैर शिक्षकीय कार्य में मलाईदार कर्सियों पर जमे हुए हैं।
बीआरसीसी कार्यालय में संलग्र शिक्षक-
शासकीय हाई स्कूल बघड़ा संकुल केंद्र हड़बड़ो में पदस्थ माध्यमिक शिक्षक अर्चना शुक्ला को नियम विरूद्ध तरीके से पिछले दो वर्षों से बीआरसीसी कार्यालय सीधी में संलग्र किया गया है। इनका संलग्नीकरण का आदेश तत्कालीन जिला शिक्षा अधिकारी के आदेश पर किया गया था, जिन्हे संचालनालय के आदेश के बाद भी संबंधित विद्यालय के लिए मुक्त नहीं किया जा रहा है।
दीपक तले खुद अंधेरा-
दीपक तले अंधेरा बना हुआ है। लोक शिक्षण संचालनालय के द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी को शिक्षको को गैर शैक्षणिक कार्य से मुक्त करने के ओदश दिए गए हैं किंतु यहां जिला शिक्षा अधिकारी मुक्त करने की जगह अपने ही कार्यालय मे शिक्षको को अटैच कर गैर शैक्षणिक कार्य लिया जा रहा है। जब जिम्मेदार अधिकारी ही नियमो का बाट लगाए तब फिर कार्रवाई की उम्मीद किससे की जाए।
ये शिक्षक अटैच हैं डीईओ कार्यालय मे-
आधा दर्जन शिक्षको को जिला शिक्षा अधिकारी के द्वारा अपने कार्यालय मे अटैच कर रखे हैं। इससे पूर्व सुजीत मिश्रा वरिष्ठ अध्यापक को कार्यालय मे अटैच किया गया था, जहां अनियमितता सामने आने पर तत्कालीन कलेक्टर के द्वारा निलंबित कर दो वेतन वृद्धि रोक दी गई थी, किंतु कलेक्टर के तवादले के बाद बाद सुजीत मिश्रा को दोबारा डीईओ आफिस मे अटैच कर लिया गया है। इसके साथ ही पथरोला मे पदस्थ अध्यापक सुरेश मिश्रा, जोगीपुर मे पदस्थ प्रधानाध्यापक रमानिवास मिश्रा, शाउमावि कन्या सीधी मे पदस्थ विज्ञान सहायक प्रदीप सिंह व एडीपीसी तेंदुआ मे पदस्थ अशोक तिवारी को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय मे अटैच कर लिया गया है, जिससे शैक्षणिक कार्य प्रभावित हो रहा है।
मैने नहीं किया है अटैच-
मैं जबसे आया हूं तब से एक भी शिक्षको को अपने कार्यालय मे अटैच नहीं किया हूं, मुझसे पूर्व ही ये कार्य कर रहे थे, सुजीत मिश्रा को वरिष्ठ कार्यालय के निर्देश पर कार्य लिया जा रहा है।
नवल सिंह
जिला शिक्षा अधिकारी, सीधी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned