scriptThis year also more than a hundred incidents of fire in the forest | धधक रहे है जंगल, इस साल भी एक सैकड़ा से ज्यादा आगजनी की घटनाएं | Patrika News

धधक रहे है जंगल, इस साल भी एक सैकड़ा से ज्यादा आगजनी की घटनाएं

आगजनी में कमी लाने वन विभाग ने तय की रणनीति, नकद पुरुस्कार की घोषणा

सीधी

Updated: April 22, 2022 08:12:55 pm

सीधी. गर्मी का मौसम शुरू होते ही जंगलों में आगजनी की घटनाएं शुरू हो गई हैं। आग से जिले के जंगल धधककने लगे हैं, जहां-तहां जंगलों में आग लगने की सूचना मिल रही है। आगजनी में काफी संख्या में वन संपदा जलकर नष्ट हो रही है। जंगलों में हो रहे अग्नि हादसों पर काबू करना विभाग के लिए एक बड़ी चुनौती होती है।

इस वर्ष जिले में 15 अप्रेल तक जिले के जंगलों में कुल 103 अग्नि हादसे हो चुके हैं। जबकि, गत वर्ष15 अप्रेल तक जिले के जंगलों में 126 अग्नि हादसे हुए थे। इस तरह गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष अग्नि हादसों में करीब 23 प्रतिशत की कमी आई है। विभाग द्वारा अग्नि हादसों में आई कमी का श्रेय जिले के
बन समितियों को दिया जा रहा है। वन अमले ने वन समियिं के साथ समन्वय किया और और उनको विभिन्न प्रकार से लाभांवित कियागया। परिणाम भी दिखे और वन समितियों के पदाधिकारियों ने लघु वनोपज लेने जाने वाले, खासकर महुआ फूल चुनने के लिए जाने वाले लोगों को महुआ पेंड़ के नीचे आग न लगाने की समझाइश दी।

जिले में 174 वन समितियां गठित हैं। वन विभाग द्वारा समितियों को विभिन्न योजनाओं के माध्यम से लाभांवित किया जा रहा है ताकि उनका सहयोग लकड़ियों की चोरी रोकने, अग्नि हादसों में कमी लाने के साथ ही वन्य जीवों व वनों की सुरक्षा में लिया जा सके। विभागीय अधिकारियों की माने तो जिले की सभी 174 वन समितियों में माइक्रोप्लान लागू किया गया है, साथ ही 81 लाख की बांस बलल्‍ली व जलाऊ लकड़ी समितियों को वन विभाग द्वारा प्रदाय की गई है। जिससे वन समितियों के सदस्य वन विभाग का सकारात्मक रूप से सहयोग कर रहे हैं।

fire_in_forest.png

गर्मी के मौसम में जंगलों में अग्नि हादसों का मुख्य कारण महुआ फूल माना जाता है, महुआ फूल गिरने का समय आते ही संग्राहक महुआ पेड़ के नीचे सफाई के लिए आग लगा देते थे, जो गर्मी का मौसम होने के कारण तेजी के साथ वन क्षेत्र में फैल जाती है। इस वर्ष वन समितियों को शुरू से ही इसके लिए सक्रिय कर दिया गया था कि वह महुआ फूल संग्राहकों को इसके लिए जागरूक करें की वह आग न लगाएं, इसके लिए जंगल क्षेत्र से लगे गांवों में मुनादी भी कराई गई थी।

फायर अलर्ट सिस्टम भी सक्रिय
वन क्षेत्र में आगजनी की घटना पर इस वर्ष फायर अलर्ट सिस्टम बनाया गया है। जीपीएस सिस्टम से जुड़ा यह सिस्टम बन क्षेत्र में अग्नि हादसा होने पर संबंधित वन मंडल के अधिकारियों के पास एसएमएस अलर्ट मैसेज भेजता है, जिससे अग्नि हादसे का लोकेशन वन विभाग के अधिकारियों को मिल जाता है।

बुझाने के बजाय फैलने से रोकने पर जोर
वन क्षेत्र में आग लगने पर उसे बुझाना बड़ी चुनौती होती है। क्योंकि वहां न तो फायर ब्रिगेड वाहन पहुंच पाता और न ही आग बुझाने के लिए पानी की
उपलब्धता हो पाती। विभागीय अधिकारी बताते हैं कि आग पर काबू पाने के लिए उसको फैलने से रोकना ही एक मात्र उपाय होता है, इसके लिए जंगल की सफाई कर आग के चारो तरफ का रास्ता रोक दिया जाता है।

पुरस्कृत की योजना
अग्नि हादसा रोकने में सक्रिय भूमिका निभाने वाली वन समिति को इस वर्ष नकद राशि से पुरस्कृत करने की भी योजना है। बताया गया कि जिन वन समिति क्षेत्र में गत वर्षों में अधिक अग्नि हादसे हुए थे, वहां यदि इस वर्ष समिति के सहयोग से अग्नि हादसे नहीं हुए तो समिति को विभाग द्वारा 10 हजार रुपये की नकद राशि से पुरस्कृत किया जाएगा। वनमंडलाधिकारी क्षितिज कुमार ने कहा कि अग्नि हादसे रोकने के लिए वन समितियों का विशेष सहयोग लिया जा रहा है, जिसके परिणाम भी सामने आए हैं और गत वर्ष की तुलना में अग्नि हादसों में 25 प्रतिशत की कमी आई है। वन समितियों को नकद राशि से भी पुरस्कृत किया जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

नोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.