scriptTribal women of MP, writing the script of change with Kodo-Kutki | कोदो-कुटकी से बदलाव की इबारत लिख रहीं मप्र की आदिवासी महिलाएं, तीन महीने में बनी आत्मनिर्भर | Patrika News

कोदो-कुटकी से बदलाव की इबारत लिख रहीं मप्र की आदिवासी महिलाएं, तीन महीने में बनी आत्मनिर्भर

समूह बनाकर शुरू किया उत्पादन, चावल तैयार कर दिल्ली-मुंबई के होटल्स में शुरू की सप्लाई

सीधी

Published: January 20, 2022 03:09:32 am

सीधी. जिस कोदो-कुटकी को किसी जमाने में गरीबों का भोजन कहा जाता था। आज उसी कोदो कुटकी से आदिवासी महिलाएं बदलाव की कहानी गढ़ रही हैं। मप्र के आदिवासी बहुल कुसमी क्षेत्र (सीधी जिला) में कोदो-कुटकी तो पुस्तों से उगाते आ रहे थे। क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा न होने के कारण लोग बहुतायात में इसी की खेती करते थे, लेकिन कभी बाजार में नहीं बेचा।
Tribal women of MP, writing the script of change with Kodo-Kutki
Tribal women of MP, writing the script of change with Kodo-Kutki
टमसार की सुमित्रा ने तकरीबन आधा दर्जन आदिवासी महिलाओं का समूह बनाया और नई तकनीक से कोदो-कुटकी का कारोबार करने का निर्णय लिया। प्रशासनिक की मदद से उन्होंने कोदो से चावल बनाने की मशीन खरीदी। अन्य महिलाओं की मदद से वह आसपास से कोदो खरीदकर उसका चावल बनाती हैं और बेहतर तरीके से पैकजिंग कर दिल्ली-मुंबई सहित बड़े महानगरों के होटलों में सप्लाई करती हैं। सोनांचल ब्रांड का उनका यह कोदो चावल काफी पसंद किया जा रहा है।
Tribal women of MP, writing the script of change with Kodo-Kutki
IMAGE CREDIT: patrika
50 फीसदी तक का मुनाफा
सुमित्रा ने बताया कि सीधी में कोदो चावल 100 रुपए किलो मिल जाता है, जबकि, दिल्ली-मुंबई में यह 150 से 180 रुपए किलो तक बिकता है। डिमांड भी अच्छी खासी है। उन्होंने बताया कि हर 10 दिन के अंतराल में 5 क्विंटल कोदो चावल तैयार कर आपूर्ति करती हैं। 3 महीने पहले ही शुरुआत किया है। सरकार की मदद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी आपूर्ति करना चाहती हैं।
सरकार करती है मदद
सीधी जिल में कोदो कुटकी को एक जिला, एक उत्पाद योजना के तहत शामिल किया गया है। यही वजह है कि प्रशासन इसके उत्पादन से लेकर पैके जिंंग, ब्रांडिग व मार्केटिंग तक मदद करती है। शुगर-फ्री होने के कारण यह चावल खाने के लिए चिकित्सक भी सुझाव देते हैं। यही वजह है कि बाजार में इसकी मांग लगातार बढ़ती जा रही है।
पोषक तत्वों से भरपूर है कोदो
कोदो-कुटकी से बने उत्पाद डायबिटीज व अन्य बीमारियों से ग्रसित लोगों के लिए उत्तम आहार है। चिकित्सक भी इसके सेवन की सलाह देते हैं। यही वजह है कि शहरों में यह खासा लोकप्रिय है। कम लागत व खाद, दवा कम पानी में भी यह हो जाता है।
कोदो में औषधीय गुण
कोदो भारत का एक प्राचीन अन्न है। इसे ऋ षि अन्न भी कहते हैं। इसके दाने में 8.3 प्रतिशत प्रोटीन, 1.4 प्रतिशत वसा व 65.9 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट होता है। कोदो का चावल मधुमेह नियंत्रण, गुर्दों व मूत्राशय संबंधी बीमारी के लिहाज से लाभकारी होता है। कोदो-कुटकी हाई ब्लडप्रेशर के रोगियों के लिए रामबाण है। इसमें चावल के मुकाबले कैल्शियम भी 12 गुना अधिक होता है। शरीर में आयरन की कमी दूर करता है। रासायनिक उर्वरक व कीटनाशक से मुक्त इस चावल में सभी पोषक तत्वों होते हैं, जो आयुर्वेदिक दवाओं का भी काम करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

IPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाWatch: टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र का दबाया गला, VIDEO देख भड़की जनताHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.