ग्रामीण के भूखे मरने की सूचने पर ग्राम सुधार समिति के सदस्यों ने पहुंचाया खाद्य सामग्री

कोरोना के कर्मवीर....लॉक डाउन के कारण खाने के लिए घर में नहीं बचा था अनाज का एक दाना

By: Manoj Pandey

Published: 18 Apr 2020, 10:57 PM IST

सीधी। कोरोना वायरस कोविड-19 के कारण घोषित लॉक डाउन के कारण दिहाड़ी मजदूरों के समक्ष भोजन की समस्या हो गई है। हलांकि जिले में प्रशासन के साथ ही कई स्वयंसेवी संगठन व व्यापारी भी ऐसे गरीब और जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं, जिनके संबंध में सूचना प्राप्त हो जाती है। ऐसे ही कोरोना के कर्मवीर के रूप में जिले की ग्राम सुधार संस्था भी कार्य कर रही है। विगत दिनों जिले के आदिवासी विकासखंड कुसमी अंतर्गत ग्राम बजवई के कुटियन टोला निवासी रामसागर कोल के घर में खाने के लिए अनाज न होने की सूचना ग्राम सुधार समिति के क्षेत्रीय कार्यकर्ता अंगिरा को हुई। अंगिरा ने इसकी सूचना अपने वरिष्ठ साथियों को देते हुए वह स्वयं संबंधित गांव पहुंचे और रामसागर कोल के बच्चों राशन की उपलब्धता करवाई। रामसागर ने बताया कि वह दो साल पहले सीधी पटेहरा से आकर यहां घर बनाकर रह रहा है, 4-5 दिन पहले उसके पिता का पटेहरा में स्वर्गवास हो गया है, अत: वह और उसकी पत्नी पटेहरा गांव चले गए हैं। बजवई में उसके 3 बच्चे हैं, जिनके भोजन के लिए अनाज नहीं है। संस्था के क्षेत्रीय कार्यकर्ता ने इन भूखे बच्चों के लिए राशन की व्यवस्था की।

Manoj Pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned