scriptWater level going down one meter every month howl for water scorching | पानी के लिए हाहाकारः हर माह एक मीटर नीचे खिसक रहा जल स्तर | Patrika News

पानी के लिए हाहाकारः हर माह एक मीटर नीचे खिसक रहा जल स्तर

भीषण गर्मी का असर पहाड़ी क्षेत्रों का औसत जल स्तर बीस मीटर

सीधी

Published: April 18, 2022 08:00:23 pm

सीधी. पिछली बरसात के मौसम में जिले की औसत वर्षा से अधिक बारिश होने के बावजूद जिले के जल स्तर मे कोई खास बढ़ोत्तरी नहीं हो पाई है वही जनवरी माह से जिले का जल स्तर प्रतिमाह करीब एक मीटर नीचे खिसक रहा है। वर्तमान समय मे जिले का औसत जल स्तर करीब 16 मीटर बताया गया है, लेकिन जिस गति से जिले का जल स्तर नीचे खिसक रहा है उससे यह उम्मीद जताई जा रही है गर्मी के मौसम मे जल स्तर और तेजी के साथ नीचे जाएगा, जिसके कारण मई-जून माह मे जिले के हैंडपंप सूख जाएंगे।

water.png

हालांकि इसकी तैयारी विभाग द्वारा शुरू कर दी गई है, और पहाड़ी अंचल के हैंडपंपों में रायजर पाइप लगाने की तैयारी की जा रही है, क्‍योंकि ऐसे क्षेत्रों मे पेयजल संकट गहराने के ज्यादा आसार नजर आ रहे हैं। उल्लेखनीय है कि बारिश के मौसम में इस वर्ष जिले मे अच्छी बारिश हुई थी, जिले की औसत बारिश से करीब डेढ़ गुना ज्यादा बारिश होने से लोगों ने उम्मीद की थी कि जिले का जल स्तर काफी ऊपर आ जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ अच्छी बारिश के बावजूद जिले के स्तर मे कोई खास बढ़ोत्तरी नहीं हो पाई, और गत वर्ष की तरह ही मार्च माह की स्थिति मे जिले का जल स्तर पंद्रह मीटर के आस-पास ही रह गया।

पड़ेगी रायजर पाइप की आवश्यकता
जिस गति से प्रति माह जिले का जल स्तर गिर रहा है, उससे तेज गर्मी एवं धूप मे और भी तेज गति से जल स्तर नीचे गिरने की संभावना व्यक्त की जा रही है। ऐसे मे जिले 75 के हैंडपंप सूख जाएंगे और उन्हे पुर्नजीवित करने के लिए रायजर पाइप की आवश्यकता पड़ेगी। जिले के औसत जल स्तर मे गिरावट का दौर शुरू हो गया है, पहाड़ी अंचलों मे जल स्तर ज्यादा तेजी के साथ नीचे जा रहा है। ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जा रहा है, यहां के हँडपंपों मे अतिरिक्त रायजर पाइप लगवाए जाएंगे ताकि पेयजल की दिक्कत न हों।

इसलिए नहीं बढ़ा जल स्तर
लोक स्वास्थ्य यांत्रकीय विभाग के अधिकारी बताते हैं कि बारिश के मौसम में जिले के औसत बारिश से करीब डेढ़ गुना से भी ज्यादा बारिश तो हुई लेकिन यह बारिश एक साथ हुई जिससे बारिश का ज्यादातर पानी तेज बहाव के साथ बह गया। यदि रुक-रुक कर बारिश का दौर चला होता तो वह पानी जमीन सोखती जिससे जिले का जल स्तर ऊपर आ जाता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ, जिसकी वजह से जिले के जल स्तर में कोई खास बढ़ोत्तरी नहीं हुई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाब'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायाSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़पसचिन दिल्ली से जयपुर की फ्लाइट में बैठे और पहुंच गए अहमदाबाद, ऐसे हुआ गड़बड़झालाअमित शाह और IAS पूजा सिंहल की फोटो शेयर करने वाले फिल्ममेकर को कोर्ट से नहीं मिली राहत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.