आधार नहीं था तो अस्पताल में नहीं किया भर्ती, मध्यप्रदेश में साड़ी के पर्दे में सड़क पर करवाई डिलेवरी

प्रसूता को अस्पताल में महज आधार कार्ड के लिए सोनाग्राफी से रोक दिया गया। आधार लाने के दौरान महिला बीच सड़क पर प्रसव हो गया।

By: suresh mishra

Published: 13 Mar 2018, 02:51 PM IST

सीधी। जिला अस्पताल में मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई। सोमवार को एक प्रसूता को अस्पताल में महज आधार कार्ड के लिए सोनाग्राफी से रोक दिया गया। आधार लाने के दौरान महिला बीच सड़क पर प्रसव हो गया। सिहावल विकासखंड की सोनवर्षा निवासी राजेश साकेत की पत्नी सविता के पेट में बच्चे की हलचल बंद हो गई थी। इसीलिए उसकी सोनोग्राफी की बात डॉक्टरों ने कही थी। सड़क पर भीड़भाड़ भरे क्षेत्र में जब महिलाओं ने उसकी हालत देखी तो वे खुद उसके लिए पर्दा बन गईं।

चोरी हो गया था कार्ड

आधार मांगे जाने पर सविता ने देवरानी को फोन कर आधार कार्ड लेकर आने को कहा। दो घंटे बाद १० बजे आधारकार्ड अस्पताल पहुंचा तो सही, लेकिन तभी पर्स चोरी हो गया। नर्सों ने एक नहीं सुनी और बिना आधार सोनोग्राफी से साफ मना कर दिया। दुकान से नया आधार कार्ड निकलवाने के लिए सविता का अगूंठा लगाना जरूरी था, इसलिए परिजन उसे दुकान लेकर जा रहे थे। इसी दौरान अस्पताल के बाहर सड़क पर उसका प्रसव हो गया। महिलाओं ने साड़ी की ओट में डिलेवरी कराई।

सिविल सर्जन डॉ. डीके द्विवेदी ने कहा
सोनोग्राफी प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी गई है। इसमें आधार कार्ड अनिवार्य है। इसीलिए कार्ड मांगा गया होगा। शासन के नियम कभी कभार बहुत ज्यादा समस्याएं उत्पन्नकर देते हैं, लेकिन हम उनका पालन करने को मजबूर हैं। इमरजेंसी वाले प्रकरणों में नियम यदि शिथिलता नहीं किए गए तो ऐसी समस्याएं सामने आती रहेंगी।

अव्यवस्थाओं की खुली पोल
अस्पताल में प्रसव एवं जननी सुरक्षा के लिए शासन द्वारा अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन रिकॉर्ड के अभाव में दर्द से कराहती प्रसूता की जांच न करना एवं प्रसव के लिए भर्ती न करना जिला अस्पताल के प्रसव वार्ड में तैनात अमले की मौके की नजाकत को देखते हुए असंवेदनशीलता तो है ही। इस घटना ने सरकारी सिस्टम में काम कर रहे स्टाफ की सोच तो प्रदर्शित कर ही दी।

लोगों का जमघट
प्रसव होने के दौरान महिला चीखने-चिल्लाने लगी। शुरुआत में लोग समझ नहीं पाए। लगा हादसा हो गया। बाद में उन्होंने मानवता दिखाते हुए कपड़े की व्यवस्था कराई। ताकि, उसे ढंका जा सके। मामले की सूचना अस्पताल प्रबंधन को दी। इस पर प्रसव वार्ड से स्टाफ भेजा गया। वे जच्चा-बच्चा को स्ट्रेचर में रखकर अस्पताल ले गए। प्रसोवोत्तर वार्ड में उन्हें भर्ती कराया गया। जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं। बताया गया, सविता ने लाडली को जन्मा है। एक बच्ची व एक बच्चा पहले से है।

suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned