निर्भया के आरोपियों को फांसी की सजा पर महिलाओं ने ब्यक्त की खुसी

निर्भया के आरोपियों को फांसी की सजा पर महिलाओं ने ब्यक्त की खुसी, कहीं-बालात्कार के अन्य आरोपियों को भी होनी चाहिए फांसी की सजा

By: op pathak

Updated: 27 Mar 2020, 09:54 PM IST

सीधी। दिल्ली गैंगरेप निर्भया के आरोपियों को फांसी देने पर जिले की महिलाओं मे उत्साह देखने को मिला। न्यायालय के इस निर्णय का महिलाओं के द्वारा सम्मान करते हुए इस सजा मे लंबा समय लगने का खेद ब्यक्त किया गया। वहीं कहा गया कि ऐसे जघन्य मामले मे आरोपियों की पैरवी करने के लिए वकीलों को आगे नहीं आना चाहिए।
यह बहुत पहले हो जाना चाहिए-

निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा स्वागत योग्य है, यह बहुत पहले हो जाना चाहिए, जिससे इस अंतराल मे हुए गैंगरेप की वारदात करने की हिम्मत कोई नहीं जुटा पाता।
सुलोचना पांडेय
निवासी, हाउसिंग बोर्ड कालोनी सीधी
अन्य मामलो मे भी इसी तरह की होनी चाहिए सजा-
निर्भया मामले मे आरोपियों को फांसी देना महिलाओं की सुरक्षा के लिए बहुत आवश्यक था। निर्भया के अलावा भी कई गैंगरेप की वारदातें घटित हुई है, उन आरोपियों को भी जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जानी चाहिए।
पूजा पांडेय
निवासी, पूजा पार्क सीधी
सही हुआ-

दोषियों को शनिवार की सुबह फांसी पर लटका दिया गया, जो हुआ सही हुआ, इससे अब लोग किसी महिला की इज्जत से खिलवाड़ करने की हिम्मत नहीं जुटा पाएंगे।
अंकिता अवधिया
निवासी, सर्राफा बाजार सीधी
राजनीतिक लोगों के कारण हुआ विलंब-

निर्भया के साथ जिस तरह से छह आरोपियों के द्वारा बर्बरता बरती गई थी, उन्हें तत्काल फांसी की सजा दे देनी चाहिए किंतु राजनीतिक लोगों के अडंगे के कारण विलंब हुआ है, देर से ही सही पर निर्भया को आज सच्ची श्रद्धांजलि मिल गई है।
रोशनी गुप्ता
निवासी, पुलिस लाइन सीधी
महिलाओं की जीत का है दिन-
शुक्रवार का दिन महिलाओं की जीत का दिन है, बहुत समय लगा किंतु अच्छा निर्णय लिया गया। इस तरह के फैसले से अब अपराधिक लोग महिलाओं की आबरू से खिलवाड़ करने के लिए आगे आने की हिम्मत नहीं जुटा पाएगें।
रंजना मिश्रा
अधिवक्ता, जिला न्यायालय सीधी

op pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned